Monday, November 30, 2009

" कोर्णाक पत्रकारिता पुरुस्कार"

2009-10 का" कोर्णाक पत्रकारिता
पुरुस्कार"प्रदीप श्रीवास्तव कों
निज़ामाबाद। कला ,संस्कृति एवम पत्रकारिता के लिए दिया जाने वाला " कोर्णाक पुरुस्कार "इस बार निज़माबाद (आन्ध्र प्रदेश ) के हिंदी भाषी पत्रकार प्रदीप श्रीवास्तव कों दिया जा रहा है।यह पुरुस्कार अगले वर्ष 26 जनवरी2010 कों उड़ीसा के कटक में आयोजित 15 से 28 जनवरी तक होने वाले थियेटर ओलंपियाड के दौरान दिया जायेगा। पुरष्कार थियेटर मूवमेंट द्वारा हर साल" कला - संस्कृति एवम पत्रकारिता" के लिए किये गए उल्लेखनीय कार्य हेतु दिया जाता है । जिसे इस बार निज़ामाबाद से प्रकाशित राष्ट्रीय हिंदी दैनिक "स्वतंत्र वार्ता " के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव कों दिया जा रहा है। यह जानकारी देते हुए मूमेंट थियेटर के महा सचिव श्री जी ।बी दास महापात्र ने बताया कि पुरुस्कार के रूप में शाल ,श्रीफल एवम स्मृति चिन्ह दे कर सम्मानित किया जायेगा.मूल रूप से अयोध्या(फैजाबाद )के रहने वाले प्रदीप श्रीवास्तव पिछले 28 वर्षं से हिंदी पत्रकारिता से जुड़े हैं. स्वतंत्र पत्रकारिता के बाद वाराणसी से प्रकाशित हिंदी दैनिक "आज " के वाराणसी एवम आगरा संसकरण के सम्पादकीय विभाग में काम करने के बाद हरियाणा ,आसम,दिल्ली ,महाराष्ट्र के बाद इन दिनों निज़ामाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक स्वतंत्र वार्ता में स्थानीय सम्पादक हैं.इससे पहलेश्री श्रीवास्तव कों अनेको पुरुस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है.जिसमे प्रमुख हैं 1986 में रोट्रेक्ट क्लब वाराणसी द्वारा "यूवा प्रतिभा ",1993 में लघु समाचार पत्र सम्मेलन द्वारा अहिन्दी भाषी क्षेत्र में हिंदी पत्रकारिता के लिए ,कला साहित्य एवम संस्कृति परिषद् मथुरा द्वार हास्य वयंग्य कि रचना पर" साहित्य सरस्वती " कि उपाधि,2006 में इन्डियन एसोसिएसन आफ जर्नलिस्ट ,वाराणसी द्वारा "काशी रत्न अलंकरण " ,2006 में निज़ामाबाद शताब्दी के अवसर जिला प्रशासन द्वार "निज़ामाबाद गौरव "पुरस्कार के साथ निज़ामाबाद रोटरी क्लब ,लायंस कलब आफ डायमंड आदि संस्थाओं द्वारा समय-समय पर पुरुस्कार व सम्मान शामिल हैं. श्री प्रदीप श्रीवास्तव निज़ामाबाद पर्यटन विकास समिति (पर्यटन विभाग) के कार्यकारी सदस्य ,संस्कार भारती इन्दुर हिंदी समिति व निज़ामाबाद साइक्लिंग एसोसिएसन के सलाहकार ,आन्ध्र प्रदेश रोल बाल एसोसिएसन के प्रदेश उपाध्यक्ष , के साथ-साथ निज़ामाबाद उत्तसव समिति एवम स्मारिका उपसमिति के सदस्य के अलावा वे आन्ध्र प्रदेश रेड क्रास सोसायटी के आजीवन सदस्य भी हैं।

cell ०९८४८९९७३२७




Sunday, November 29, 2009

तेरस प्रमुख के सी आर गिरफ्तार,

चौदह दिन के लिए जेल


आज तेलंगाना बंद,

स्कुल कालेज भी रहेंगे बंद
निज़ामाबाद . पृथक तेलंगाना कि मांग कों लेकर भूख हड़ताल पर बैठने से पहले ही करीम नगर पुलिस तेरास प्रमुख के.सी.आर कों रविवार कों गिरफतार १४ दिन के लिए जेल भेज दिया है.इस घटना कों लेकर तेलंगाना के सभी दस जिलों में तनाव पैदा हो गया है.उधर हैदराबाद स्थित उस्मानिया विश्वविधालय में आन्दोलन कर रहे छात्रों पर पुलिस द्वारा लाठियां भांजने से दर्जन भर छात्रों के घायल होने कि खबर है. जिसे देखते हुए तेरास ने सोमवार कों तेलंगाना बंद का आह्वान किया है.इस बीच निज़ामाबाद के तेरास जिला अध्यक्ष ए एस पोशेत्ति ने आप कि न्यूज से बात करते हुवे बताया कि काल सोमवार कों पुरे तेलंगाना कों बंद रखने का आह्वान किया गया है.जिसके तहत सभी दस जिलों में स्कुल, कालेज के साथ-साथ सड़क परिवहन ,दुकाने एवं बाजार तक बंद रखे जायंगे.उन्होंने आगे कहा कि इसका उलंघन करने वालों कों तेरास सबक सिखाएगी .श्री पोसेत्ति ने बताया कि तेरास प्रमुख के साथ पुलिस ने जो कुछ किया है,हम उसकी कड़े सबदों में निंदा करते हैं.अब हम तेलंगाना ले कर रहेंगे.बंद में निज़ामाबाद ,आदिलाबाद,करीमनगर,वारंगल ,हैदराबाद,मेदक सहित सभी दसों जिले शामिलहैं.
















Sunday, November 22, 2009

कैनवास पर" करो या मरो "



26 नवम्बर नरेन्द्र की तूलिका से कैनवास पर
नांदेड के रहने वाले युवा चित्रकार व् फोटो ग्राफर नरेन्द्र बोरली पवार ने जब गत वर्ष मुंबई में 26 को हुवे आतंकी हमले के बाद एक-एक कर अस्पतालों में आते शवों को देखा तो उनका मन विचलित हो उठा ,उस दृश्य को देख कर वे बीमार पढ़ गए तभी से उनके मन में उन दृश्यों को कैनवास पर उतारने का मन बना लिया.जे.जे स्कुल ऑफ़ आर्ट्स से मास्टर आफ फाइन आर्ट्स की शिक्षा पूरी करने वाले नरेन्द्र के शब्दों में "उनके इन चित्रों में मानव वेदना एवम दुःख की भावना उभरती है.20-20घंटे कैनवास पर उन दर्दों कों उकेरने वाले नरेंद्र कहतें हैं की उनकी इच्छा है कि वे अपनी इस प्रदर्शनी को पूरे देश में लगायें,जिसके लिए वे कुछ भी नहीं लेंगे। श्री नरेन्द्र ने 8x8एवम 5x5फुट के 26कैनवास बनाये हैं। वे कहते हैं कि उनका प्रयास रहा है कि हर भारतवासी कि भावना को अपनी तूलिका के मध्यम से कैनवास पर उकेरें ,उन्होंने कैनवास पर गाढे लाल रंग का ही अधिक उपयोग किया है.उन्हो ने अपने छत्रों में हिन्दी कि कवितायें भी डालीं हैं ,जिनके एक-एक शब्द चोट करतें हैं.वे अपने चित्रों को बेचने के पक्ष में नही हैं.वे कहते हैं कि आज देश में धरम,जाति,भाषा व् वंश के नाम पर भेद भाव पैदा किया जा रहा है। हमें इन सब को भूल कर एक भारतीय के रूप में होना चाहिए.श्री नरेन्द्र कि एक प्रदशनी 26नवंबर से 28नवम्बर तक मुंबई में लग रही है।जिसे उन्होंने शीर्षक दिया है "डू या डाई (करो या मरो)अर्थात " आतंकवाद के खिलाफ कला" जिसका अवलोकन आप भी कर सकते हैं।
स्थान:रविद्र नाट्य मन्दिर, कला वीथिका
सिध्विनायक मन्दिर के निकट
प्रभा देवी ,मुंबई-25
समय : सुबह 11से सायं 7बजे तक

Monday, November 16, 2009

कनाडा के प्रधान मंत्री ने देखा आर.के स्टूडियोमुंबई ,भारत यात्रा के दौरान कनाडा के प्रधान मंत्री स्टीफन हार्पर ने मंगलवार कों १७ नवंबर ०९ कों मुंबई के आर .के. स्टूडियो का अवलोकन किया .इस मौके पर स्थानीय कलाकारों के साथ हार्पर दंपत्ति .
विवरण व चित्र सूचना विभाग ,मुंबई
===============================================

Saturday, November 14, 2009

हर्षोल्लास के साथ मनाया गया पत्रकारिता दिन





राष्ट्रीय पत्रकारिता दिवस के अवसर पर 16 नवंबर को निज़ामाबाद, नांदेड एवम आदिलाबाद में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. आंध्र प्रदेश के निज़ामाबाद में आंध्र प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के तत्वधान में निज़ामाबाद प्रेस क्लब के परिसर में कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इसमे एक स्थानीय हिंदी दैनिक स्वतंत्र वार्ता के अस्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव ने कहा कि पत्रकारिता को दुरुपयोग शुरू कर दिया गया है, जिस पर अब नियंत्रण आवश्यक है.

द हिन्दू के जिला सवांददाता पी राम मोहन का कहना था कि आज पत्रकारिता के मापदंडों के मायने बदल रहे हैं. इसे रोकने की जरूरत है. पत्रकार संघ के अध्यक्ष बोबिली नर्सर्या का कहना था कि वे अपने स्तर पर प्रयास करेंगे कि सरकारी योजनाओं का लाभ सही पत्रकारों को मिले. संघ के सचिव ऐ सायलू ने पत्रकारों के उत्थान के लिए हर संभव प्रयास करने का अश्वासन दिया. पत्रकारिता दिन के अवसर पर केक भी काटा गया. इस दौरान काफी संख्या में पत्रकार उपस्थित थे.

नांदेड में इस दिन को वहां के जिलाधीश कार्यालय में मनाया गया. जिलाधीश डॉ श्रीकर परदेशी एवम वरिष्ठ पत्रकार सुधाकर दोइफोडे ने सबसे पहले बालगंगाधर के चित्र पर माल्यार्पण किया. इस अवसर पर डॉ परदेशी ने कहा कि समाचार पत्रों को निष्पक्षता के साथ पारदर्शिता बरतते हुए समाचार प्रकाशित करना चाहिए. वरिष्ठ पत्रकार सुधाकर दोइफोडे का कहना था कि आज समाचार पत्र व्यावसायिक हो गए हैं. इससे लगता है कि पत्रकारिता अपना मार्ग बदल रही है. बभालीबांध को लेकर जिस तरह से आंध्र पदेश के अख़बारों ने लिखा, उस तरह से महाराष्ट्र के अख़बारों ने नहीं लिखा. कार्यक्रम का संचालन जिला सूचनाधिकारी डॉ. किरण मोघे ने किया.

इसी दिन आदिलाबाद में आंध्र प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ, आदिलाबाद के तत्वधान में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला परिषद् के अध्यक्ष एस. गणपति ने कहा कि समाज एवं राष्ट्र के विकास में मीडिया का योगदान महत्वपूर्ण है. सयुंक्त जिलाधीश आर. विजी कुमार का कहना था कि देश की तक़दीर लिखने का दम कलम में ही है. आसिफाबाद के विधायक आत्रम सक्कु ने कहा कि वास्तविकता को सामने रखते हुए मीडिया अपने दायित्व को निभाए. इस कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकारों को सम्मानित किया गया.

Friday, November 13, 2009


विज्ञानं रेल प्रदर्शनी नांदेड में
निजामाबाद. शुक्रवार कों नांदेड के माता टेकडी रेलवे स्टेशन पर भारत सरकार द्वारा चलाई गई विज्ञानं रेल प्रदर्शनी जब पहुंची तो उसे देखने वालों का ताता लग गया ,जिनमें बच्चों कि संख्या सबसे अधिक थी .तमाम स्कुल के बच्चे इसे देखने पहुँच रहें हैं.यह प्रदशनी १९ नवम्बर तक चलेगी.

Sunday, November 8, 2009





महाराष्ट्र मंत्री मंडल का गठन

शनिवार को मुंबई में सूचना एवम प्रसारण राज्य मंत्री डॉ.एस जगत रसिकन ने दीप जला कर "मुंबई अन्तर राष्ट्रिय फ़िल्म महोत्सव "का सुभारम्भ किया ,उस अवसर पर सिने प्रेमियों को सम्भोदित करते हुवे मंत्री महोदय.

Monday, November 2, 2009





नांदेड व बासर में
कार्तिक पूर्णिमा
पर भक्तों ने
लगाई डूबकी
श्री गुरु नानक जी कि जयंती एवम कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर नांदेड एवम माँ सरस्वती कि नगरी बासर में भक्तों ने हर्षोलास के साथ मनाया .बासर में जहाँ हजारों भक्तो ने गोदावरी में सोमवार कि सुबह डूबकी लगाई वहीँ नांदेड स्थित गुरुद्वारा अबिचल सहेब सचखंड के पीछे गोदावरी के तट पर हजारों महिलाओं ने दीप जलाकर समां बांध दिया .जिसे अपने कैमरे में कैद किया है नांदेड से कारण सिंह बैंस एवं बासर से डी शंकर ने .