Monday, February 1, 2010

प्रदीप श्रीवास्तव कों सम्मानित करते हुवे उदय नाग
प्रदीप श्रीवास्तव कोर्णाक
सम्मान से सम्मानित
कटक, बीते 26 जनवरी कों शहर के कला विकास केंद्र के सभा गृह में थियेटर मूवमेंट द्वारा आयोजित दसवें अखिल भारतीय बहु भाषी नृत्य एवम नाटक समारोह में निज़ामाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक स्वतंत्र वार्ता के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव कों वर्ष 2009-10 का कोर्णाक सम्मान से बीजू जनता दल के जिला अध्यक्ष श्री उदय नाग पुष्टि ने स्मृति चिन्ह एवं सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया. इस अवसर पर बोलते हुवे श्री श्रीवास्तव ने कहा कि पिछले दस वर्षों से थियेटर मूवमेंट द्वारा अतुल्य भारत कि संसकृति कों संरक्षित रखने का जो काम किया जा रहा है,वह वास्तव में अतुलनीय है,जिसकी जीतनी तारीफ कि जाय वह काम है. उन्हों ने आगे कहा कि इस तरह के आयोजनों से भारत कि लुप्त होती लोक कलाओं कों बचाया जा सकेगा.ओरिसा तो वास्तव में कला कि खान है,जिसका जीवंत उदाहरण कोर्णाक का सूर्य मंदिर ही है.यह राज्य कला के दृष्टि से भी काफी समृधि वाला है.थियेटर मूवमेंट के महासचिव जी.बी. दास महापात्र का कहना था कि कला के संरक्षण के उद्देश्य से ही वे बीते दस सालों से इस छोटे से शहर में यह कार्य क्रम कों करते आ रहे हैं.जिसमे केवल भारत के ही नहीं अपितु बंगला देश व पाकिस्तान के भी कलाकार भाग लेते हैं.उनहोने आगे कहा कि श्री श्रीवास्तव कों यह सम्मान उनके द्वारा बीते पच्चीस सालों से पत्रकारिता एवं कला संस्कृत के लिए किये जा रहे कार्यों के लिये दिया जा रहा है. जिन्हें कला एवं संगीत कि नगरी काशी में स्व. जयशंकर प्रसाद कि अमर कृति "गुंडा" एवम श्री विजय तेंदुलकर कि रचना "बेबी" के मंचन का श्रय आज भी दिया जाता है.ये नाटक लगभग 25 साल पहले वाराणसी के मुरारी लाल मेहता प्रेक्षा गृह मे खेला गया था.इस अवसर पर श्री पुष्टि के अलावा न्याय मूर्ति डी. पी. महापात्र ,अध्यक्ष डॉ. नारायण साहू आदि भी उपस्थित थे.

No comments:

Post a Comment