Thursday, June 24, 2010


"भगवान महावीर विश्व सदभावना
पुरस्कार -2010 " प्रदीप श्रीवास्तव को


हैदराबाद . भगवान महावीर विश्व सदभावना पुरस्कार समिति,हैदराबाद द्वारा "विश्व पर्यावरण दिवस " के उपलक्ष्य में हर साल दिया जाने वाला "भगवान महावीर विश्व सदभावना पुरस्कार-2010 " इस बार निज़ामाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक "स्वतंत्र वार्ता "के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव को दिया जायेगा. यह जानकारी समिति द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में समिति के चीफ कन्वेनर डॉ हरीश चन्द्र विद्यार्थी ने दी. विज्ञप्ति के मुताबिक श्री श्रीवास्तव को उनके पर्यावरण एवं जीवदया तथा अन्य मानवीय हितार्थ समर्पित सामाजिक सेवाओं व् उनके द्वारा पर्यावरण पर लिखे गए रचनाओं तथा विशिष्ट योग्यताओं को धयान में रख कर प्रदान किया जा रहा है.पता हो की इससे पहले इस सम्मान से प्रदेश के पूर्व राज्यपाल महामहिम बी.सत्यनारायण रेड्डी, महामहिम रामेश्वर ठाकुर ,समाजसेवी अमृत कुमार जैन,कवि नरेंदर राय ,डॉ अर्चना सिंह(राष्ट्रीय महिला आयोग,आन्ध्र प्रदेश की अध्यक्ष ),श्रीमती रत्नमाला साबू (निदेशक महेश बैंक ,हैदराबाद),विजय वीर विद्यालंकार ,हैदराबाद के पूर्व महापौर तिगलाकृष्ण रेड्डी ,न्यायधीश सुभाषण रेड्डी, जगदीशमल मेहता प्रदान ककिया जा चुका है .यह पुरस्कार रविवार 4 जुलाई को हैदराबाद स्थित श्री पोट्टी श्रीरामलू विश्व विधालय के सभाग्रह में आयोजित एक समारोह में दिया जायेगा.जिसमे मुख्य अतिथि के रूप मे आन्ध्र प्रदेश के राज्यपाल महामहिम श्री ई.एल. नरसिंहंम्न होंगें.
इस अवसर पर विभिन्न सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी भी उपस्थित रहेंगे.इस अवसर पर "पर्यावरण एवम जीवदया संरक्षण की उपयोगिता "विषय पर एक संगोष्ठी का भी आयोजन किया गया है.जिसमे विशेष वक्ता के रूप मेंश्री श्रीवास्तव अपने विचार रखेंगे.
उलेखनीय है कि इसी वर्ष भारतीय संसकृति निर्माण परिषद् हैदराबाद ने पत्रकारिता एवम जनसंपर्क के लिए "जनजागृति सेवा सदभावना पुरस्कार -2010 ,थियेटर मूवमेंट ,कटक(उड़ीसा ) ने कला संसकृति एवं पत्रकारिता के लिए "कोर्णाक सम्मान-2010 ' प्रदान किया है.इससे पहले सन 2007 में निज़ामाबाद जिला प्रशासन द्वारा "निज़ामाबाद गौरव ",2006 में" इन्डियन एसोसियेशन आफ जर्नलिस्ट "(वाराणसी)द्वारा" काशीरत्न अलंकरण ",सन 1993 एवं " लघु समाचार पत्र सम्मलेन -उत्तर प्रदेश" द्वारा अहिन्दी भाषी क्षेत्र में हिंदी पत्रकारिता के लिए सम्मानित, सन 1982 में "अखिल भारतीय कला एवम साहित्य विद्यापीठ,मथुरा" द्वारा "साहित्य सरस्वती" की उपाधि से नवाजा जा चुका है.श्री श्रीवास्तव मूलतः उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के रहने वाले हैं,जिन्हों ने शिक्षा वाराणसी में हासिल की.

No comments:

Post a Comment