Thursday, August 5, 2010


बाबली सहित अन्य अवैध
परियोजनाओं
को त़ोडने
तक आंदोलन जारी
रखेगी
तेदेपा:बाबू

हैदराबाद। तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने उत्तर तेलंगाना की गोदावरी नदी पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा मनमाने ढंग से बनायी गयी बाबली संबंधितपरियोजनाओं (बांधों) को त़ोडने तक अपना आंदोलन जारी रखने की घोषणा की है। तेदेपा ने आरोप लगाया है कि इन अवैध परियोजनाओं की वजह से एसआरएसपी की परिधि में आने वाले १८ लाख हेक्टेयर क्षेत्रों पर बंजर भूमि में तब्दील होने का खतरा मंडराने लगा है। पार्टी ने कहा है कि मुख्य विपक्षी दल के रूप में तेदेपा इन अवैध परियोजनाओं को त़ोडने के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार है। तेदेपा प्रमुख नारा चंद्रबाबू नायुडू की अध्यक्षता में आज उनके आवास पर बाबली मुद्दे पर करीब चार घंटे तक चर्चा हुई। इसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं यनमला रामकृष्णुडू, नागम जनार्दन रेड्डी, कडियम श्रीहरि, टी देवेंदर ग़ौड, मंडवा वेंकटेश्वर राव, पोचारम श्रीनिवास रेड्डी, सोमी रेड्डी चंद्रमोहन रेड्डी, वेम नरेंद्र रेड्डी एल रमणा, विजयरमणा राव आदि ने भाग लिया। बाबली के अवैध निर्माण को रोकने के लिए राजनीति से ऊपर उठकर सभी पार्टियों को साथ लेकर आंदोलन तेज करने पर भी चर्चा हुई। उन्होंने इस समस्या का समाधान होने तक संघर्ष करने का फैसला किया। बाबली परियोजना के अवैध निर्माण को रोकने में केंद्र राज्य सरकारों की विफलता के विरोध में सूर्यपेट से तुंगतुर्ति तक तेदेपा की ओर से विशाल पदयात्रा आयोजित करने की घोषणा की गयी, लेकिन यह यात्रा कब शुरू होगी, यह अभी तय नहीं हुआ है। इसमें पार्टी प्रमुख चंद्रबाबू नायुडू भी भाग लेने के इच्छुक हैं। बैठक ने एसआरएसपी संरक्षण समिति गठित करने का निर्णय लिया गया। तेदेपा ने ग्राम मंडल स्तर पर जागरूकता सभाएं आयोजित कर बाबली के अवैध निर्माणों की वजह से उत्तर तेलंगाना को होने वाले नुकसान के बारे में व्यापक प्रचार करने का फैसला किया गया। तेदेपा ने कहा है कि अपने आंदोलन से वह इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को झुकने को विवश कर देगी। पार्टी ने महाराष्ट्र सरकार द्वारा नियमों को ताक पर रखते हुए सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करने के बावजूद इस मामले में केंद्र सरकार के उदासीन रुख पर क़डा विरोध जताया। बैठक में उपस्थित नेताआें ने कहा कि प्रधानमंत्री के समक्ष दोनों राज्यों की मुख्यमंत्रियों की बैठक हुई, लेकिन बाबली के अवैध निर्माण को रोकने हेतु कोई फैसला नहीं लिया गया। बैठक के बाद विधायक येर्रा बेल्ली दयाकर राव ने कहा कि पार्टी को आशा थी कि बाबली मुद्दे पर प्रधानमंत्री उचित कार्रवाई करेंगे, लेकिन उन्होंने हमारी आशाआें पर पानी फेर दिया। बैठक में उत्तर तेलंगाना के हितों की रक्षा के लिए एसआरएसपी संरक्षण समिति गठित करने का निर्णय लिया गया।

No comments:

Post a Comment