Saturday, October 2, 2010

अहमद -फातिमा दंपत्ति
बने
एक-दूजे के लिए

निज़ामाबाद. विकलांगता किसी के जीवन में जीवन में खुशी भी भर देती है ,जिसका जिवंत उदाहरण है 26 वर्षीय अहमद एवम उनकी 25 वर्षीय पत्नी फातिमा बेगम.जिनका निकाह एक साल पहले ही हुआ है.अहमद के दोनों हाथ नहीं है तो फातिमा के दोनों पैर.अल्लाह ने शायद दोनों को एक-दूजे के लिए ही बनाया है.विकलांग होने के बावजूद दोनों जीवन के सभी कामों को बाखूबी करते हैं. अहमद अपने पैरों से अपने बालों में कंघी करता है तो उसकी पत्नी घर के कामों को.अहमद वैक्यूम किलिनर से घर की सफाई करता है तो उसकी बीबी फातिमा बर्तन साफ करती है.कहने का मतलब कि दोनों एक दूसरे के कामों में हाथ बटाते हैं.तभी तो यह दंपत्ति सभी को यह सन्देश देते हैं कि "जिंदगी को हमेशा खुशी के साथ जियो,चाहे वह कितनी भी कठिन क्यों न हो,क्यों न जिंदगी रोने के हजार बहाने दे,पर आप दुनिया को बता दो कि आप के पास करोड़ों हँसने के बहाने है.
इस दंपत्ति को apkinews.blogspot.com सलाम करता है.

No comments:

Post a Comment