Thursday, October 28, 2010

भाजपा की तेलंगाना आंदोलन

समिति का सत्याग्रह ९ नवंबर को

हैदराबाद। केंद्र सरकार से तेलंगाना क्षेत्र आग का गोला बनने से पहले ही आगामी संसद के शीतकालीन सत्र में तेलंगाना पर विधेयक पेश करने की मांग को लेकर भारतीय जनता पार्टी की तेलंगाना आंदोलन समिति ने ९ नवंबर को तेलंगाना क्षेत्र के सभी मंडल मुख्यालयों व नगरपालिकाआें की परिधि में एक लाख लोगों की मौजूदगी में सत्याग्रह आयोजित करने का निर्णय लिया है।
आंदोलन समिति के चेयरमैन डॉ टीराजेश्वर राव की अध्यक्षता में भाजपा के प्रदेश कार्यालय में तेलंगाना क्षेत्र के पदाधिकारियों की बैठक आयोजित की गयी। बैठक में सभी विषयों पर चर्चा कर कुछ प्रस्ताव भी पारित किये।बैठक में उपस्थित नेताआें ने कहा कि श्रीकृष्णा समिति तेलंगाना राज्य के गठन के अनुकूल अपनी रिपोर्ट सौंपेगी, इसका हमें विश्वास नहीं है और ३१ दिसंबर के बाद तेलंगाना क्षेत्र में पूरे तेलंगाना में तनाव पैदा होने की संभावनाएं नजर आ रही हैं। भाजपा नेताआें ने तेलंगाना क्षेत्र के तेदेपा नेताआें से पार्टी प्रमुख नारा चंद्रबाबू नायुडू के हाथों विधानसभा में प्रस्ताव पेश कराने की मांग की। नवंबर के अंत में भाजपा के तत्वावधान में दिल्ली में संसद में तेलंगाना विधेयक के नाम पर एक जनसभा आयोजित करने का फैसला किया गया। बैठक में नेताआें ने १५ दिनों के भीतर टैंकबंड पर कोमुरम भीम की प्रतिमा स्थापित करने की मांग की और ऐसा नहीं हुआ, तो गिरिजनों के सहयोग से भाजपा के तत्वावधान में प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की।

तेलंगाना विद्रोह दिवस एक नवंबर को

हैदराबाद। एक नवंबर को तेलंगाना विद्रोह दिवस के रूप में मनाते हुए ‘जनदंडोरा’ कार्यक्रम के आयोजन के अलावा लोगों के साथ मिलकर सभी स़डक मागा] पर चक्काजाम किया जायेगा।
तेलंगाना राजनीतिक जेएसी के चेयरमैन प्रो कोदंडराम ने आज यहां जेएसी के उपाध्यक्ष देवी प्रसाद, कत्ती वेंकट स्वामी, प्रवक्ता सी विट्ठल, वी श्रीनिवास ग़ौड, अद्दंकी दयाकर राव के साथ मिलकर वालपोस्टरों का विमोचन किया। कोदंडराम ने इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि १ नवंबर को तेलंगाना के सभी लोग अपने मकानों के पास काला झंडा फहराये और काले बैज लगाये। उन्होंने बताया कि एक सप्ताह तक चलने वाला विरोध सप्ताह शुरू हो गया है। उन्होंने विद्रोह दिवस को सफल बनाने के लिए पूरी तैयारी करने का आह्वान करते हुए कहा कि कल २८ अक्टूबर को हस्ताक्षर अभियान, २९ को विद्रोह दिन पर जनप्रतिनिधियों को पत्र लिखने का कार्यक्रम, ३१ अक्टूबर को साइकिल मोटर रैली निकाली जायेगी। उन्होंने कहा कि तेलंगाना में उत्पन्न विशेष परिस्थितियों में सरकार द्वारा एक नवंबर को आंध्र प्रदेश स्थापना दिवस का आयोजन किया जाना ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि दिसंबर में श्रीकृष्णा समिति की रिपोर्ट आने वाली है और ऐसे में आंध्र प्रदेश स्थापना दिवस का आयोजन कर तेलंगाना के लोगों को भ़डकाना अनुचित होगा। उन्होंने सवाल किया कि तेलंगाना मुक्ति दिवस का आधिकारिक आयोजन नहीं करने वाली प्रदेश सरकार अब १ नवंबर को आंध्र प्रदेश स्थापना दिवस का आयोजन कैसे कर सकती है?


No comments:

Post a Comment