Friday, November 26, 2010


गीता रेड्डी होंगी आन्ध्र प्रदेश
की उपमुख्यमंत्री ?


नई दिल्ली। कांग्रेस आलाकमान ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी के मंत्रिमंडल में उप मुख्यमंत्री के तौर पर डॉ जे गीता रेड्डी का नाम लगभग तय कर लिया है। इसके अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए बोत्सा सत्यनारायण के नाम को भी हरी झंडी दिखा दिये जाने की खबर मिली है। गीता रेड्डी को उपमुख्यमंत्री बनाये जाने के मुख्य कारणों में कांग्रेस पार्टी में वरिष्ठ और एक दलित महिला नेता का होना, अब तक उनका कई बार मंत्री के रूप में सेवाएं देना तथा तेलंगाना से ज़ुडा होना शामिल है। बताया जाता है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की प्रिय महिला नेताआें में से एक गीता रेड्डी के केंद्र में कई वरिष्ठ नेताआें के साथ अच्छे संबंध हैं। शनिवार की रात उपमुख्यमंत्री पद के लिए गीता रेड्डी के नाम की घोषणा किये जाने की संभावना है। उधर, कई मादिगा नेता दामोदर राजनरसिम्हा के नाम पर विचार करने का दबाव बना रहे हैं, लेकिन लगता है कि वे अपने प्रयास में सफल नहीं हो पाएंगे।उधर, विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए मल्लु बट्टी विक्रमार्का, नादेंड्ला मनोहर रेड्डी या मर्री शशिधर रेड्डी के नाम सुर्खियों में हैं। मल्लु बट्टी विक्रमार्का को कैबिनेट में लिये जाने की भी अटकलें हैं।मंत्रिमंडल में जगह मिलने की उम्मीद में बैठे नेताआें में धर्मान प्रसाद राव, बोत्सा अप्पलनरसय्या, सुजयकृष्णा रंगाराव, राजेश्वरी देवी, कोंडा® मुरलीमोहन, तोट नरसिम्हम, पितानी सत्यनारायण, नल्लमिली शेषा रेड्डी, पार्थसारथी, मल्लाडी विष्णु, कन्ना लक्ष्मीनारायण, मोपीदेवी वेंकटरमणा, गादे वेंकट रेड्डी, गोट्टीपाटी रवि कुमार, आनम रामनारायण रेड्डी, गल्ला अरुणा कुमारी, कुतुहलम्मा, वाईएस विवेकानंद रेड्डी, जाना रेड्डी, अहमदुल्ला, डीएल रविंद्रा रेड्डी, रविंद्रा रेड्डी, रघुवीरा रेड्डी, जेसीदिवाकर रेड्डी, टीजी वेंकटेश, एरासु प्रताप रेड्डी, जूपल्ली कृष्णा राव, डीके अरुणा, दामोदर राजनरसिम्हा, सबिता इंद्रा रेड्डी, दानम नागेंदर, उत्तम कुमार रेड्डी, रामरेड्डी वेंकट रेड्डी, पोन्नाला लक्षमय्या तथा गंड्रा वेंकटरमणा रेड्डी शामिल हैं। उसी तरह, विधान परिषद से पद्मराजू, एचक्रपाणी और पोंगुलेटी सुधाकर को मौका मिलने की संभावना है।उधर, आंध्र प्रदेश कांग्रेस समिति के नये अध्यक्ष के लिए पूर्व मंत्री बोत्सा सत्यनारायण का नाम लगभग तय हो गया है। एआईसीसी सूत्रों की मानें, तो इस संबंध में केवल आधिकारिक घोषणा किया जाना बाकी है। बोत्सा के करीबी भी इस बात की ओर स्पष्ट संकेत दे रहे हैं।बोत्सा ने आज नई दिल्ली में एपी भवन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आलाकमान जिसे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाएगा, वह अंतिम फैसला होगा। उन्होंने कहा कि यह पद उसी को मिलेगा, जो इस पद के लिए बिल्कुल योग्य हो, क्योंकि कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व करने वालों की कमी नहीं है।इस बीच, राज्य मंत्रिमंडल में जगह पाने के लिए नई दिल्ली में विधायक पुरजोर कोशिश कर रहे हैं। सोमवार को नये मंत्रिमंडल का गठन होने संबंधी खबरों के मद्देनजर आज से ही २५ विधायक, विधान परिषद सदस्य तथा पांच पूर्व मंत्री दिल्ली में डेरा डालकर एआईसीसी के महत्वपूर्ण नेताआें से भेंट कर उनके सामने अपना पक्ष रख रहे हैं।
-------------------------------------------------------------------------------------------
जगन ने अपने चहेते विधायकों
के लिए मांगे चार मंत्री पद !

हैदराबाद। राज्य में गठित होने जा रहे नये मंत्रिमंडल में अपने गुट के चार विधायकों को मंत्री पद दिये जाने को लेकर क़डपा के सांसद जगनमोहन रेड्डी द्वारा भरसक प्रयास किये जाने की खबर मिली है। बताया जाता है कि जगन गुट ने कांग्रेस आलाकमान से रायलसीमा क्षेत्र से ज़ुडे नेताआें पूर्व मंत्री जेसी दिवाकर रेड्डी तथा डीएल रविंद्रा रेड्डी को पुनः मंत्री पद से महरूम रखे जाने की अपील की है।सूत्रों के अनुसार जगन गुट ने किरण रेड्डी से विगत में मंत्री पद से इस्तीफा दे चुकीं कोंडा सुरेखा, पूर्व मंत्री पिल्ली सुभाष चंद्रबोस, बालिनेनी श्रीनिवास रेड्डी के अलावा एक अन्य नेता को मंत्रिमंडल में जगह देने की मांग की है। जगन गुट के सूत्रों के अनुसार उसकी इन मांगों के प्रति मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी ने सकारात्मक प्रतिक्रिया व्यक्त की है। इसी के तहत जगनमोहन रेड्डी ने अपने समर्थक नेताआें से नवनियुक्त मुख्यमंत्री एन किरण कुमार रेड्डी और कांग्रेस के खिलाफ किसी भी तरह की विवादास्पद बयानबाजी नहीं करने को कहा है।सूत्रों के अनुसार कल रात बेंगलूर से हैदराबाद पहुंचे सांंंसद जगनमोहन रेड्डी ने सागर सोसाइटी स्थित अपने कार्यालय में आज सुबह से अपने गुट के लोगों के साथ बैठक कर भविष्य की रणनीति पर चर्चा की। इसके अलावा नवनियुक्त मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी से सद्संबंध बनाये रखने का निर्णय लिया।सूत्रों ने बताया कि राजशेखर रेड्डी के निधन के बाद मुख्यमंत्री पद वाईएस राजशेखर रेड्डी के पुत्र जगनमोहन रेड्डी को नहीं दिये जाने के विरोध में इस्तीफा दे चुकीं कोंडा सुरेखा को किसी भी स्थिति में मंत्रिमंडल में जगह देने की मांग की गयी है।उसी तरह, पहले से जगन गुट में रहकरओदार्पु यात्रामें भाग ले चुके पिल्ली सुभाष चंद्रबोस तथा बालीनेनी श्रीनिवास रेड्डी को गठित होने जा रहे मंत्रिमंडल में हर कीमत पर लेने की मांग रखी गयी है ,इनके अतिरिक्त जगन गुट से और एकदो लोगों को मंत्रिमंंंडल में शामिल करने की मांग की गयी है। वाईएस आर के निधन के बाद पूर्व मंत्री जेसीदिवाकर रेड्डी तथा डीएल रविंद्रा रेड्डी ने दिवंगत नेता वाईएसआर पर कई तरह के आरोप लगाये थे। संभवतः इसीलिए जगन गुट ने इन दोनों को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने की मांग रखी है।


No comments:

Post a Comment