Thursday, December 16, 2010

16 दिसंबर गुरुवार को आन्ध्र प्रदेश के वारंगल में आयोजित तेरास की महागर्जना रैली में भाग लेते हुए तेरास प्रमुख के.सी .आर ,स्वामी अग्निवेश एवम विजया शांति
-------------------------------------------------------------------------------------------------

तेलंगाना की घोषणा न होने पर युद्ध

जैसे हालत होंगें : के सी आर

वरंगल। तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख कल्वाकुंटा चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने केंद्र सरकार से आगामी फरवरी में होने वाले संसद के बजटसत्र में पृथक तेलंगाना संबंधी विधेयक पेश करने की मांग करते हुए चेतावनी दी कि ऐसा नहीं होने की स्थिति में तेलंगाना क्षेत्र में युद्घ जैसी स्थिति पैदा हो जायेगी। वरंगल के तेलंगाना शहीद श्रीकांत चारी मैदान (प्रकाश रेड्डीपेट मैदान) में गुरुवार कि रात ‘तेलंगाना महागर्जना’ के नाम से आयोजित विशाल जनसभा में राव ने यह चेतावनी दी।उन्होंने कहा कि तेलंगाना समर्थकों के आंदोलन, मेरे आमरण अनशन और गत वर्ष ९ दिसंबर को केंद्र सरकार द्वारा की गयी घोषणा के मुताबिक तेलंगाना राज्य के गठन के संबंध में बजट सत्र में विधेयक पेश करना ही एकमात्र रास्ता बचा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को इस मार्ग पर चलना चाहिये, अन्यथा तेलंगाना हासिल करने के लिए लोग आंदोलन की राह पर आगे ब़ढेंगे। राव ने कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों पर क़डा प्रहार करते हुए कहा कि 53 वर्ष पहले कांग्रेस के नेताओं ने ही तेलंगाना को सीमांध्र से ज़ोडा था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता पृथक तेलंगाना का गठन करवाने में विफल रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो एकता सीमांध्र के राजनीतिक नेताओं बीच है, वह एकता तेलंगाना क्षेत्र के कांग्रेसी और तेलुगु देशम पार्टी के नेताओं के बीच नहीं है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने जब देर रात तेलंगाना के गठन संबंधी प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की थी, उसके अगले ही दिन सीमांध्र में राजनीति से ऊपर उठकर सभी विधायक एकजुट हो गये और पृथक तेलंगाना के गठन को रोकने के लिए इस्तीफों के साथ कतार में ख़डे हो गये।उन्होंने कहा कि तेलंगाना के कांग्रेसी नेता सब कुछ कांग्रेस आलाकमान पर छ़ोडकर समय बर्बाद कर रहे हैं। उन्होंने सवाल किया कि कांग्रेस आलाकमान क्या केवल तेलंगाना के नेताओं के लिए हैं, सीमांध्र के नेताओं के लिए नहीं। इस अवसर पर विजया शांति, स्वामी अग्निवेश .के.सी.आर की बेटी कविता,ऐ एस.पोशेट्टी प्रोफ़ेसर कोंदराम ,हरीश राव आदि भी उपस्थितथे.

No comments:

Post a Comment