Wednesday, January 19, 2011


देश में पहली बार 150 रुपए का सिक्का जारी

निज़ामाबाद ।बुधवार को देश में पहली बार 150 रुपए कीमत का सिक्का जारी किया गया है। गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की 150वीं जयंती वर्ष के मौके पर भारत सरकार ने यह सिक्का जारी किया है।मध्यप्रदेश स्थित भारतीय स्टेट बैंक के विपणन कार्यपालक सुरेश शुक्ला के मुताबिक कोलकाता स्थित टकसाल द्वारा विशेष श्रंखला के तहत जारी 150 रुपए का सिक्का 40 मिलीमीटर व्यास का है और इसका वजन 35 ग्राम है। चांदी, तांबा, निकेल और जिंक धातुओं के मिश्रण से निर्मित सिक्के में दाऊतें (सिरेशन) की संख्या 200 है। इसी प्रकार 5 रुपए कीमत का टैगोर स्मृति विशेष श्रंखला सिक्का भी जारी किया गया है। इसका वजन 6 ग्राम और व्यास 23 मिलीमीटर है। इसमें 100 दांतें हैं। यह सिक्का तांबा, निकेल एवं जिंक धातुओं के मिश्रण से बनाया गया है।श्री शुक्ला के मुताबिक इसी वर्ष भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना के 75 वर्ष पूर्ण होने पर 75 रुपए का विशेष सिक्का जारी किया जाएगा। कॉमनवेल्थ गेम्स की स्मृति में भी 100 रुपए का सिक्का जारी किया जा रहा है। इसी तरह इस साल देश में पहली बार 10 रुपए का पॉलीमर नोट लाया जायेगा.

----------------------------------------------------------------------------

जयपुर सहित उत्तर भारतमें कांपी

धरती,कोई नुकसान नहीं

मुझे लगा मेरे बिस्तर के नीचे कोई घुस
कर बेड को हिला रहा: डॉ एन. रामचंदर

निज़ामाबाद जयपुर और दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। मंगलवार देर रात करीब 1 बजकर 55 मिनट के आसपास भूकंप के झटके महसूस किए गए। ये झटके करीब एक मिनट तक महसूस किए गए। भूकंप का केन्द्र दक्षिण पाकिस्तान में बताया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक भूकंप का केन्द्र बलूचिस्तान का खरान था। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 7.4 थी। हालांकि इन झटकों से अभी तक किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है। विशेषज्ञों ने कहा है कि इस भूकंप से सुनामी आने का खतरा नहीं है।
इस बीच राजस्थान के जयपुर में बुधवार से शुरू हुए दो दिवसीय बच्चों के डाक्टरों की हो रही राष्ट्रिय सम्मलेन में भाग लेने गए निज़ामाबाद के बालचिकित्सक डॉ एन. रामचंदर ने वहां से फ़ोन पर बताया कि वे रात ही जयपुर पहुंचे थे.होटल में देर रात साऊथ अफ्रीका एवम भारत के बीच हो रहे क्रिकेट मैच का आनंद टेलीविजन पर ले रहे थे,मैच काफी रोमांचक क्षणों मे था ,कुछ रनों की भारत को जरुरत थी,मान में तनाव भी था,रात लगभग दो बज रहे थे कि अचानक होटल का बेड जिस पर में लेता था,हिलाने लगा ,खिड़कियाँ भी हिलाने लगी,पहले मुझे लगा कि मेरे बेड के नीचे कोई घुसा है, में बिस्तर से कूदकर नीचे देखा लेकिन वहां पर कोई नहीं था,यह झटक लगभग एक मीनट तक रहा होगा.इसी बीच होटल के बाहर शोर मचाना सुरु हो गया ,जिससे पता चला कि भूकंप का झटका था,डॉ रामचंदर ने बताया कि जयपुर शहर में अब सब कुछ सामान्यहै.
लोग घरों से बाहर निकले
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राजस्थान के जिन इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किए गए। उनमें जैसलमेर, श्रीगंगानगर, सूरतगढ़, जोधपुर, बाड़मेर, भीलवाड़ा, अजमेर, पुष्कर, बीकानेर, कोटा, अलवर हैं। जैसलमेर और बाड़मेर में 2 बार झटके महसूस किए गए। भूकंप के झटकों के कारण यहां किले के पत्थर गिर गए। जयपुर में भूकंप के झटकों के कारण लोगों की नींद खुल गई। शहर में घरों के शीशे टूट गए। लोग डर के मारे लोग घरों से बाहर निकल आए और सुरक्षित स्थानों की ओर चले गए। जोधपुर में रात करीब 1.55 बजे भूकम्प के कम्पन के कारण खिड़की-दरवाजे बर्तन हिलने लगे। भारत दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जा रहे क्रिकेट मैच देखने के कारण अधिकांश घरों में लोग जाग रहे थे। इस दौरान टीवी हिलता देख लोग घबरा गए और सड़क पर निकल आए।
राजस्थान सुरक्षित...
जयपुर समेत पूरा राजस्थान सुरक्षित क्षेत्र में है। यहां भविष्य में बड़े भूकम्प की आशंका नहीं है। 2.6 से 3 की तीव्रता वाले झटके महसूस किए जा सकते हैं, हालांकि इससे कोई जनहानि नहीं होगी। भू-वैज्ञानिक
निशाने पर सिरोही, जालौर सीकर
डॉ.एम.के. पण्डित,वरिष्ठ भू-वैज्ञानिकों की मानें तो अरावली के पश्चिम किनारा सिरोही, जालौर, सीकर में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए जा सकते हैं। अरावली का पश्चिम किनारा अलग-अलग भूवैज्ञानिक सरंचनाओं का जोड़ है। यही वजह है कि इन क्षेत्रों में हल्का भूकंप कभी-कभी सकता है।
जयपुर है सुरक्षित
डॉ.पंडित ने बताया कि जयपुर सुरक्षित जिला है। यहां पर अरावली की चट्टानें पुराने काल की हैं। राजस्थान का एरिया भू-वैज्ञानिक रूप से अलग-अलग काल की चट्टानों का मिश्रण है। अरावली पर्वत श्ृंखला सबसे पुरानी है। अरावली की चट्टानों की आयु करीब 170 करोड़ से लेकर 330 वष्ाü तक है। यहां पर भू-वैज्ञानिक गतिविधियां पहले ही हो चुकी हैं
अभी भी बरकरार है भूकंप का खतरा
दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान में बीती रात करीब 1.55 बजे आए भूकंप से राजस्थान सहित पूरा उत्तर भारत पहले ही कांप चुका है और भू-वैज्ञानिकों की मानें तो खतरा अभी टला नहीं है। पश्चिमी राजस्थान के कुछ जिलों पर खतरे के बादल अभी भी मंडरा रहे हैं। भू- वैज्ञानिकों के अनुसार पश्चिमी राजस्थान के कुछ हिस्से में दोबारा भूकंप के झटके महसूस किए जा सकते हैं। वरिष्ठ भू-वैज्ञानिक डॉ. एमके पंडित ने बताया कि पश्चिमी राजस्थान के जैसलमेर, बाड़मेर एवं गुजरात में दोबारा भूंकप आने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि उत्तर-दक्षिण दिशा में यह फॉल्ट जोन है जो कि गुजरात से लेकर जैसलमेर, बीकानेर की तरफ जाता है। यह अरावली क्षेत्र की अपेक्षाकृत काफी एक्टिव है। इस वजह से इन स्थानों पर भूकंप ज्यादा सकता है।
उत्तर- भारत में भी यहां-यहां झटके
उत्तर भारत में दिल्ली, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद के अलावा पंजाब और उत्तराखण्ड में भी भूकम्प के झटके महसूस किए गए। मध्यप्रदेश के ग्वालियर समेत कुछ हिस्सों में भी हल्के झटके महसूस किए गए।
पाकिस्तान में सबसे ज्यादा असर
भूकंप का सबसे अधिक असर दक्षिण-पश्चिमी पाकिस्तान में दिखा। कई घरों में दरारें पड़ने की भी खबर है।
---------------------------------------------------------------------
शम्मी-शशि कपूर की हालत गंभीर
मुंबई। लगभग एक महीने से अस्पताल में भर्ती बॉलीवुड एक्टर शम्मी कपूर की हालत गंभीर बताई जा रही है। सूत्रों के अनुसार, शम्मी कपूर की किडनी ने काम करना बंद कर दिया है। गौरतलब है कि कपूर खानदान का नाम रोशन करने वाले दो अभिनेता शम्मी कपूर और शशि कपूर को पिछले महीने अस्पताल में भर्ती कराया गया था। शशि को बुखार आने के बाद और शम्मी किडनी समस्या के चलते भर्ती कराया गया था।

No comments:

Post a Comment