Sunday, February 20, 2011


श्रीलंका ने कनाडा को 210 रन से धोया

हम्बनतोता। माहेला जयवर्धने (100) के धुआंधार शतक और कप्तान कुमार संगकारा के 92 रनों की बदौलत श्रीलंका ने कनाडा को विश्व कप में अपने पहले मैच में रविवार रात यहां 210 रन से रौंदकर टूर्नामेंट में अपने अभियान की धमाकेदार शुरूआत की। श्रीलंका के सात विकेट पर 332 रन के जवाब में कनाडा की टीम 36.5 ओवर में 122 रन पर सिमट गई। विश्व कप के इतिहास में यह सातवीं सबसे बड़ी जीत है।
जीत के लिए 333 रन के कठिन लक्ष्य का पीछा करने उतरी कनाडाई टीम की शुरूआत हाहाकारी रही और उसने अपने तीन विकेट 12 रन पर ही गंवा दिए। कप्तान आशीष बगई ने 22 और रिजवान चीमा ने सर्वाधिक 37 रन बनाए। श्रीलंका की ओर से कुलशेखरा ने छह ओवर में मात्र 16 रन देकर तीन विकेट लिए, जबकि परेरा ने 34 रन पर तीन विकेट चटकाए। मुरलीधरन को दो तथा मेंडिस और समरवीरा को एक-एक विकेट मिला।
इससे पूर्व जयवर्धने ने विश्व कप का चौथा सबसे तेज शतक ठोकते हुए 81 गेंदों में नौ चौकों और एक छक्के की मदद से 100 रन बनाए। उनका यह कुल 13वां और विश्व कप का तीसरा शतक है। कप्तान कुमार संगकारा ने 87 गेंदों में सात चौकों और एक छक्के की मदद से 92 रन बनाए, जबकि ओपनर तिलकरत्ने दिलशान ने 59 गेंदों में आठ चौकों की मदद से 50 रन का योगदान दिया। जयवर्धने और संगकारा की अनुभवी जोड़ी ने कनाडा के गेंदबाजों की जमकर धुनाई करते हुए तीसरे विकेट के लिए 179 रन की साझेदारी की।
दिलशान के 5000 रन पूरे
स्थानीय महिंदा राजपक्षे इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए पहले अंतरराष्ट्रीय मैच में श्रीलंका के कप्तान संगकारा ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। दिलशान अपना अर्धशतक पूरा करने के बाद रिजवान चीमा की गेंद पर जॉन डेविसन के हाथों लपके गए, लेकिन इससे पहले वे वनडे मैचों में अपने 5000 रन पूरे कर चुके थे।
पहली जीत महत्वपूर्ण
पहला मैच हमेशा महत्वपूर्ण होता है, चाहे सामने कोई भी टीम हो। मुझे खुशी है कि हमने जीत के साथ शुरूआत की। मुझे नहीं पता था कि मैंने विश्व कप का चौथा सबसे तेज शतक लगाया है। मुझे बड़ा स्कोर खड़ा करना था जो मैंने बखूबी किया। यहां का पिच, आउटफील्ड और माहौल सब हमारे पक्ष में रहा।
महेला जयवर्द्धने, मैन ऑफ द मैच
जीत का श्रेय मैं जयवर्द्धने को देता हूं। उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की, साथ ही तेज गेंदबाजों और स्पिनर्स ने भी तय रणनीति के अनुसार प्रदर्शन किया। कुमार संगकारा, कप्तान श्रीलंका
हमने शुरूआत अच्छी की थी, लेकिन संगकारा और जयवर्द्धने ने हमें आगे कोई मौका नहीं दिया। यहां का मौसम हमारे अनुकूल नहीं होने से भी खिलाडियों को थोड़ी दिक्कत हुई, लेकिन इसमें ढलने के लिए हमारे पास काफी समय है। हम अगले मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे।
आशीष बगई, कप्तान कनाडा

No comments:

Post a Comment