Saturday, March 5, 2011









वैदिक मन्त्रों के बीच वरुण गाँधी

ने भरा यामिनी की मांग में सिंदूर

काशी (वाराणसी,बनारस )। भारतीय जनता पार्टी [भाजपा] के राष्ट्रीय महासचिव व युवा सासद वरुण गाधी और कोलकाता की ग्राफिक डिजाइनर यामिनी राय रविवार को विवाह के पवित्र बंधन में बंध गए। वरुण-यामिनी की शादी रविवार सुबह बनारस के काची कामकोटिश्वर मंदिर में वैदिक सनातनी रिवाज से संपन्न हुई। वरुण-यामिनी की शादी हनुमानघाट इलाके स्थित कामकोटेश्वर मंदिर में परंपरागत रीति-रिवाजों के साथ वैदिक मंत्रोचार के बीच हुई। मंदिर को भव्य तरीके से सजाया गया था। सजावट के लिए कोलकाता और गुजरात से फूल मंगाए गए थे। पंडाल गुजरात के कारीगरों द्वारा सजाया गया।इस मौके पर वरुण गांधी इस दौरान कुर्ता-धोती पहने हुए थे वहीं यामिनी गुलाबी रंग की साड़ी में नजर आईं। कहा जा रहा है यह साड़ी इंदिरा गांधी ने मेनका को दी थी। नेहरू गाधी परिवार की छोटी बहू और दिवंगत संजय गाधी की पत्नी मेनका गाधी इस मौके पर बेहद खुश नजर आईं।शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती की अगुवाई में पुरोहितों व पंडितों के एक समूह ने विवाह संपन्न कराया।वरुण-यामिनी की शादी में दोनों परिवारों के करीब 30-35 रिश्तेदार और करीबी लोग शामिल हुए। इस बहुचर्चित शादी के मद्देनजर इलाके में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। कामकोटेश्वर मंदिर और इसके आस-पास जिला पुलिस के साथ प्रांतीय सशस्त्र बल [पीएसी] के जवानों की तैनाती की गई थी।नेहरू गाधी परिवार में दिवंगत इंदिरा गाधी की मा कमला कौल के बाद पहली शादी ब्राह्मण परिवार में हुई। यामिनी बंगाली ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखती हैं। इस विवाह में वरुण यामिनी के परिवार, रिश्तेदार समेत कई जानी-मानी हस्तियों ने भी शिरकत की।। इससे पहले शनिवार को वरुण गाधी और यामिनी की हल्दी की रस्म वाराणसी के हनुमानघाट स्थित शकर मठ में पूरी करायी गयी।काची पीठ के शकराचार्य स्वामी जयेंद्र सरस्वती के सानिध्य में आधा दर्जन वैदिक पंडितों ने गौरी गणेश के पूजन के बीच हल्दी की रस्म पूरी कराई।गौरतलब है कि देश के सबसे प्रभावशाली राजनीतिक परिवार में होने वाली 'नई शादी' अपने साथ अनायास ही एक ऐसी पुरानी कड़ी जोड़ने वाली है जो लगभग एक सदी से इस परिवार से दूर थी। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की वर्ष 1916 में कमला नेहरू से हुई शादी के बाद यह पहली बार होगा जब इस परिवार में एक 'ब्राह्मण' वधू का प्रवेश होगा।अत्री गौत्र वाले पंडित नेहरू की कमला नेहरू से शादी के बाद इस परिवार का हिस्सा बनने वाली संजय गाधी-मेनका गाधी के सुपुत्र वरुण गाधी की होने वाली पत्नी यामिनी रॉय चट्टोपाध्याय का गौत्र 'वशिष्ठ ' है। सूत्रों के मुताबिक वरुण की होने वाली पत्नी यामिनी की शादी कराने के लिए तैयार हुए काची पीठ के शकाराचार्य जयेंद्र सरस्वती ने कन्या की कुंडली देखने के बाद ही विवाह कराने को लेकर अपनी संस्तुति दी है।कन्या की कुंडली से आने वाले समय में वरुण गाधी के जीवन में कई और अच्छे योग बनने की भी चर्चा की जा रही है। कहा जा रहा है कि इस कन्या के ग्रह-नक्षत्र से वरुण के लिए शुभ लगन की कड़ी स्थापित होगी, जिससे उनका राजनीतिक व सामाजिक जीवन ऊंचाई के एक नए सोपान तक जाएगा।

No comments:

Post a Comment