Saturday, July 2, 2011

पत्रकारों से बात करते हुए डॉ केशव राव

सोमवार को इस्तीफा देंगे तेलंगाना

के सांसद,व विधायक

हैदराबाद। कांग्रेस आलाकमान तथा केंद्र सरकार से पृथक तेलंगाना राज्य की घोषणा करने या उनके इस्तीफे स्वीकार करने की मांग करते हुए तेलंगाना कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों, सांसदों, विधायकों विधान परिषद सदस्यों ने आज घोषणा की कि वे पृथक तेलंगाना के लिए स्पष्ट प्रारूप में जुलाई को अपनेअपने विधायिका अध्यक्षों को त्यागपत्र सौंप देंगे। साथ ही उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि वे कांग्रेस में रहते हुए ही पृथक तेलंगाना राज्य के लिए संघर्ष करेंगे और त्यागपत्र देने के बाद भी अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के नेतृत्व को मजबूत बनायेंगे। उन्होंने कहा कि वे अपने पदों से चिपके नहीं रह सकते और तेलंगाना की जनता की आकांक्षाआें को पूरा करने के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि यदि केंद्र सरकार ने उनके त्यागपत्रों पर प्रतिक्रिया नहीं जतायी, तो वे तेलंगाना की जनता के साथ मिलकर पृथक तेलंगाना के लिए संघर्ष शुरू कर देंगे। सत्रह विधायकों, नौ मंत्रियों, सात सांसदों, दस विधान परिषद सदस्यों अन्य महत्वपूर्ण नेताआें ने अंतिम निर्णय लेने से पहले चार घंटे तक मैराथन बैठक की। संगारेड्डी के विधायक टी जयप्रकाश को छ़ोडकर सभी ने जुलाई को त्यागपत्र देने के बारे में एकमत से सहमति दे दी। प्रदर्शनी शताब्दी कक्ष में बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए पंचायतीराज मंत्री के जाना रेड्डी ने कहा कि कांग्रेस के निर्वाचित प्रतिनिधि पृथक तेलंगाना के लिए युवकों की बलि नहीं च़ढाना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि पृथक तेलंगाना आंदोलन के दौरान ६०० युवकों ने आत्मदाह कर लिया था और इसलिए केंद्र सरकार पर पृथक तेलंगाना के गठन के लिए दबाव बनाने हेतु सामूहिक रूप से त्यागपत्र देने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस आलाकमान को मुद्दे की गंभीरता को समझना चाहिए। यह उल्लेख करते हुए कि कांग्रेस पार्टी के जनप्रतिनिधि अपने आप को प्रदर्शन कार्यक्रमों तक ही सीमित रखे हुए हैं और अपने पदों का उपभोग कर रहे हैं, जाना रेड्डी ने कहा कि उन्होंने विगत के पूरे समय में कांग्रेस आलाकमान को पृथक तेलंगाना के गठन की जरूरत के बारे में विश्वास दिलाने का प्रयास किया है। यदि कांग्रेस के नेताआे ने अब अपने पदों का बलिदान नहीं दिया, तो तेलंगाना की जनता अब और सहन नहीं करेगी।उन्होंने कहा कि जनता की भावनाआे के अनुरूप सांसद, विधायक तथा विधान परिषद सदस्य अपने त्यागपत्र दे देंगे। उन्होंने यह भी कहा कि तेलंगाना के मुद्दे पर निर्णय लेने में देरी से इस क्षेत्र का विकास भी प्रभावित होगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों ने त्यागपत्र देने का निर्णय लेकर तेलंगाना समर्थकों की आशंकाआे का निराकरण कर दिया है।तेलंगाना की मांग को एक उचित मांग करार देते हुए जाना रेड्डी ने विश्वास जताया कि कांग्रेस आलाकमान इस मुद्दे को जल्दी ही हल कर देगा।

तेलंगाना एक जटिल समस्या है: आस्कर

कांग्रेस महासचिव आस्कर फर्नांडीज ने कहा कि पृथक तेलंगाना राज्य के गठन की समस्या काफी जटिल है और केंद्र व कांग्रेस पार्टी इस समस्या के समाधान के लिए जरूरी कदम उठाएगी।


No comments:

Post a Comment