Friday, September 30, 2011

प्रदेश टुडे ने हड़प लिया विज्ञापन

के पैंतालीस हजार रुपये,

सीईओ दिखा रहा दबंगई

: अखबार के कई लोगों को पुलिस ने नोटिस दिया :
समाचार पत्रों के नाम को कलंकित करने वाले लोगों की कमी नहीं है। समाचार पत्रों की आड़ में खेल खेलने वाले समाचार पत्रों के प्रबंधको ने अपनी औकात दिखा दी है। वाकया बड़ा मजेदार और धोखाधड़ी का है, ये कारनामा कर दिखाया है प्रदेश टुडे के सीईओ सतीश पिम्पले ने, जो अपने आपको तुर्रम खां समझ रहे हैं और विज्ञापन का पैसा वापस नहीं कर रहे हैं।
दिनांक 11 सितम्बर 2011 को भोपाल में ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स एसोसिएशन का राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान समारोह ‘‘संघर्ष 2011’’ था, जिसमें देश प्रदेश से आये पत्रकारों को शुभकामनाओं दी गयी थी। प्रदेश टुडे को इस कार्यक्रम का विज्ञापन 11 सितम्बर 2011 को अखबार के अन्तिम पृष्ठ पर प्रकाशित करने के लिये पैंतालीस हजार रुपया दिया गया था, जिसका नगद भुगतान विभूति को कर दिया गया। साथ ही प्रदेश टुडे की 300 प्रतियों का आर्डर भी दे दिया गया। प्रदेश टुडे में उक्त विज्ञापन का प्रकाशन नहीं किया गया और जब दूसरे दिन विज्ञापन राशि की मांग की गई तो अखबार ने पैसे वापस करने से मना कर दिया। दिनांक 21.09.2011 को जब नितिन दुबे, जिसने विज्ञापन बुक किया था, से बात की तो उन्होंने मुझे सीईओ सतीश पिम्पले के कार्यालय बुलाया। जिस पर संस्थान के अध्यक्ष अवधेश भार्गव के साथ मैं रुपये वापस लेने गया तो पिम्पले गंदी-गंदी गालियां देते हुए धमकाया कि विज्ञापन नहीं छापा तो क्या हुआ, हम पैसे वापस नहीं करेंगे। इतना बुरा व्यवहार किया गया जो पत्रकार होने के नाते असहनीय था। कुछ देर बातें करने के बाद पिम्पले बोला ठीक है कल फोन पर बात करना मैं मैनेजमेन्ट से बात कर पैसे वापस कर दूंगा।
परन्तु अगले दिन 22.09.2011 को जब अवधेश भार्गव ने पिम्पले के मोबाइल पर बात की तो वही सुर दोहराते हुए कहा कि पैसे वापस नहीं करूंगा, तुमको जो बने वो कर लो और धमकाने लगा। जिसकी पूर्ण मोबाइल वार्ता रिकॉडिंग अवधेश भार्गव के पास सुरक्षित है। उक्त पैतालीस हजार रुपये संस्थान का है, जिसको वापस प्राप्त करने और अपराधिक कृत्य, धोखाधड़ी एवं धमकाने तथा पैसे लेकर विज्ञापन न छापने तथा अड़ीबाजी करने कर प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई के लिए ऑल इण्डिया स्माल न्यूज पेपर्स ऐशोसिएशन ने थाना एमपी नगर में शिकायत दर्ज करवाया है। एसोसिएशन ने प्रदेश टुडे के सीईओ सतीश पिम्पले सहित विज्ञापन संकलनकर्ता अवस्थी, नितिन दुबे एवं रुपये लेने वाले विभूति के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई करने की मांग की है। जिस पर थाना एम.पी.नगर ने 28 सितम्बर 2011 को कई पत्रकारों के बयान दर्ज किये हैं तथा प्रदेश टुडे के उक्त षडय़ंत्रकारियों को नोटिस जारी किया है।
विनय जी.डेविड ,भोपाल से

Saturday, September 24, 2011


तेलंगाना में नहीं चल रही रेल
के पहिये ,जन-जीवन प्रभावित
निज़ामाबाद |पृथक राज्य तेलंगाना की मांग को लेकर पिछले १२ दिनों से चली आ रही हड़ताल के तहत शनिवार से आन्दोलनकारियों ने ४८ घंटे का रेल रोको अन्द्न्दोलन भी शुरू कर दिया है इसी के साथ तेलंगाना के सभी दसों जिलों में पेट्रोल पम्प ,आटो रिक्शा ,बार आदि भी बंद हैं |जिसके चलते लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है|दक्षिण मध्य रेलवे ने पहले से ही तेलंगाना से गुजरने वाली गाड़ियों को स्थगित कर दिया है या फिर कुछ के मार्ग बदल दिए हैं | पता हो की पिछले छ दिनों से राज्य सड़क परिवहन निगम क़ी बसे सडकों पर नहीं चल रहीं है,वहीँ प्राइवेट बसें आन्दोलनकारियों का शिकार बनी इस लिये वे भी नहीं चल रही है |तेलंगाना के जिन जिलन से रेल पटरियां गुजर रहीं हैं उन पर शनिवार क़ी सुबह से तेलंगाना समर्थक बैठ गए है |हजारों लोग वहाँ पर बैठे हुए है |सबसे अधिक प्रभाव सिकंदराबाद,निज़ामाबाद,आदिलाबाद,करीमनगर,वारंगल खम्मम आदि स्टेशनों पर देखने को मिल रहा है |तेलंगाना समर्थकों ने रेलवे स्टेशनों ,उसके परिसरों क खेल का मैदान बना लिया है|कई जगहों पर सामूहिक खाने का भी आयोजन किया गया है |इस बीच तेलंगाना समर्थकों ने यू.पी.अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी की एक शव यात्रा निकली जो सहर के मुख्य मार्गों से होते हुए केन्द्रीय बास स्टेसन तक गया जहाँ पर उसका अंतिम संस्कार किया गया |
उधर "तेलंगाना समर्थक रेल रोकने पर इसलिए मजबूर हुए क्योंकि गत 12 दिनों से चल रही हड़ताल पर अब तक राज्य
और केंद्र सरकार ने कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है और तेलंगाना के साढ़े चार करोड़ लोगोंकी एक जायज़ मांग को अनदेखा करने की कोशिश की है|हालाँकि हर स्टेशन पर पुलिस और अर्धसैनिक बलों को भारी संख्या में तैनात किया गया है लेकिन उन का काम केवलशांति बनाए रखना है और वो आंदोलनकारियों को स्टेशनों और पटरियों से हटाने की कोई करवाई नहीं कर रहे हैं.हड़ताल के आह्वान के मद्देनज़र दक्षिण मध्य रेलवे पहले ही सौ के क़रीब एक्सप्रेस ट्रेनों और 267 यात्री ट्रेनों को रद्द कर चुकी है.लम्बी दूरी की 56 ट्रेनों का रास्ता बदल दिया गया है और वो तेलंगाना के इलाक़े में आए बिना ही दूसरे मार्गों से चल रही हैं.दूसरे क्षेत्रों और राज्यों से तेलंगाना आने वाली ट्रेनों को विशाखापटनम, विजयवाड़ा, गुंटूर और कुरनूल पर ही रोका जा रहा है.हैदराबाद में लगभग तीन सौ लोकल ट्रेन सेवाओं को रद्द कर दिया गया है.

रेल पटरियों पर धरना देने वाले तेलंगाना राष्ट्र समिति के विधायक तारक रामराव ने कहा, "तेलंगाना समर्थक रेल रोकने पर इसलिएमजबूर हुए क्योंकि गत 12 दिनों से चल रही हड़ताल पर अब तक राज्य और केंद्र सरकार ने कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की है और तेलंगाना के साढ़े चार करोड़ लोगों की एक जायज़ मांग को अनदेखा करने की कोशिश की है."|इस बीच सिंगरेनी के खदानों में कोयले का उत्पादन बंद हो जाने से परेशान राज्य सरकार ने हड़ताल कर रहेकर्मचारियों को लुभाने की कोशिश करते हुए कहा है कि अगर खदान मज़दूर एक दिन काम करेगा तो उसे दो दिनों का वेतन दिया जाएगा.तेलंगाना के संगठनों और सिंगरेनी मजदूरों की यूनियन ने इसे सरकार की एक साज़िश बताते हुए इसकी कड़ी निंदा की है.|इधर रेल मार्ग बंद रहने से दूसरे राज्यों से कोयला लाने की कोशिशों में भी बाधाएं आ रही हैंऔर बिजली का उत्पादन और भी घट जाने की आशंका है.अगर

ऐसा हुआ तो बिजली की कटौती की अवधि और भी बढ़ानी पड़ेगी.फ़िलहाल बड़े नगरों में दो घंटे की, छोटे नगरों में चार घंटे की और ग्रामीण इलाक़ों में आठ घंटे की बिजली कटौती चल है.

ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि तेलंगाना के कम से कम चार मंत्री और 20 कांग्रेसी विधायकों ने तेलंगाना कीजनता के दबाव के आगे झुकते हुए जल्द ही त्याग पत्र देने का मन बना लिया है.इससे एक क़दम आगे जाते हुए एक विधायक दामोदर रेड्डी ने कहा है कि वो कांग्रेस छोड़ने औरराज्य में कांग्रेस की सरकार को गिराने के लिए भी तैयार हैं.तेलंगाना के समर्थन में पेट्रोल पंप भी बंद

सरकारी कार्यालय और शिक्षा संस्थान बंद, बिजली नहीं, बस सेवा नहीं, और अब ऑटो रिक्शा औररेलें भी नहीं, पेट्रोल पम्प बंद और अब शराब की दुकानें भी बंद.यह है तेलंगाना प्रांत की वो तस्वीर जो 11 दिन से चली आ रही अनिश्चित काल की हड़ताल से उभर कर सामने आई है.अलग राज्य के लिए दशकों से लड़ने वाले तेलंगाना क्षेत्र में खुद वहां के आम लोगों ने ही वहां के सामान्यजीवन को स्थगित करके रख दिया है क्योंकि उनके अनुसार केंद्र सरकार और कांग्रेस पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्वकी लापरवाही और खामोशी को तोड़ने का इसके सिवा अब कोई रास्ता नहीं रह गया है.जहाँ आठ लाख से भी ज्यादा सरकारी कर्मचारियों, अध्यापकों और दूसरे कामगारों की हड़ताल से आम जीवनठप हो कर रह गया है और प्रशासन बिलकुल निलंबित है.गत चार दिनों से सरकारी परिवहन निगम की दस हज़ार बसें सड़कों से गायब है वहीं आज शुकवार कोअर्धरात्रि से हैदराबाद सहित पूरे तेलंगाना क्षेत्र में पांच लाख ऑटो रिक्शा भी हड़ताल पर जा रहे हैं.शनिवार की सुबह से 48 घंटों के लिए रेल सेवाएँ भी बंद हो रही हैं. ऑटो रिक्शा ड्राईवर्स की संयुक्त संघर्षसमिति ने तेलंगाना के समर्थन में 48 घंटों के बंद का आह्वान किया है जिसको कड़ी के साथ लागू किया जाएगा.इसी तरह तेलंगाना संयुक्त संघर्ष समिति ने कल सुबह से 48 घंटों के रेल रोको कार्यक्रम का आह्वान किया है औरतेलंगाना के आम लोगों से कहा है की वोह लाखों की संख्या में रेल की पटरियों पर जा बैठें और रेल न चलने दें.वैसे भी रेल प्रशासन आम लोगों से टकराने के मूड में नहीं हैं और उस ने खुद ही तेलंगाना में चलने या उस से गुज़रकर जाने वाली सारी ही एक्सप्रेस और यात्री ट्रेनें रद्द करदेने करने की घोषणा की है.इससे दक्षिणी और उत्तरी भारत के बीच एक अहम रेल संपर्क टूट जाएगा क्योंकि तेलंगाना से होकर जानेवाली लंबी दूरी की कई रेलें या तो रद्द होगी हैं या फिर उनका रास्ता बदल दिया गया है.इस बीच तेलंगाना वड्डी छात्रों ने कल एक दिन पेट्रोल पम्प और शराब की दुकानों को भी बंद रखने का आह्वानकिया है. उनका कहना है कि उसका उद्देश्य इन दोनों से राज्य सरकार को होने वाली आय को नुकसान पहुंचना है.वैसे भी कार्यालय बंद रहने से और टैक्स वसूल न होने, कोयले का उत्पादन बंद हो जाने, बिजली का उत्पादन कमहो जाने और बसें न चलने और कुल मिला कर अनिश्चित काल की हड़ताल से राज्यसरकार को तीन हज़ार करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है.जहाँ घरेलू उपभोक्ताओं के लिए पहले ही सरकार दो घंटों से लेकर आठ घंटों तकबिजली की कटौती की घोषणा कर चुकी है.वहीं आज से किसानों को रोज़ाना मुफ्त दी जाने वाली बिजली को सात घंटों से घटा कर छह घंटे कर दिया गया है.अधिकारियों का कहना है कि जैसे जैसे बिजली का उत्पादन और घटेगा, उन्हें बिजली कटौती की अवधि घटानी पड़ेगी.वैसे बिजली विभाग के अधिकारी पहले ही चेतावनी दे चुके हैं की अगर यह स्थिति कुछ और दिन चली तो पूरा राज्य ही अँधेरे में डूबने वाला है.इस के अलावा डॉक्टरों और वकीलों की हड़ताल से भी अदालतों और अस्पतालों का काम भी ठप पड़ गया है केवल आपात कालीन जैसे ही देख रहे हैं और आम रोगियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

सरकार की खामोशी!तेलांगना में हड़ताल के संपूर्ण और सफल होने के बावजूद राज्य और केंद्र सरकार दोनों का व्यवहार ऐसा है जैसे सब कुछ सामान्य रूप से चल रहा है.दिल्ली में कांग्रेस के दो प्रवक्ताओं रेणुका चौधरी और अभिषेक मनु सिंघवी ने तो यह कह कर तेलंगाना के लोगोंको और भी भड़का दिया है कि तेलंगाना में आम जीवन और सरकार पर हड़ताल का कोई असर नहीं पद रहा है.केंद्र सरकार की खामोशी पर आम लोगों के साथ खुद कांग्रेस के तेलंगाना नेता भी बहुत नाराज़ हैं और उन्होंने भी हड़ताल का समर्थन शुरू कर दिया है.कल रात कांग्रेस के तेलंगाना सांसदों ने मुख्य मंत्री किरण कुमार रेड्डी से भेंट की और दोनों के बीच तीखी बहस हो गई.

एक सांसद पूनम प्रभाकर ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल पर आरोप लगाया की वो केंद्र को गलत रिपोर्टें भेज रहे हैं और सोनिया गाँधी को अँधेरे में रखा जा रहा है.

इस बार मुख्यमंत्री उस सांसद पर बरस पड़े और तमाम सांसद मुख्यमंत्री के व्यवहार के खिलाफ उठ खड़े हुए.

मुख्यमंत्री ने यह कह कर सब को हैरान कर दिया कि उन्होंने अब तक इस हड़ताल के बारे में कोई रिपोर्ट केंद्र को भेजी ही नहीं.केंद्र की खुशी के लेकर तेलंगाना वादी विधायकों और दूसरे नेताओं के विरुद्ध भड़कने लगे हैं.उनका विचार यही है कि केंद्र को तेलंगाना राज्य की स्थापना पर उसी समय मजबूर किया जा सकता है जब तेलंगाना के तमाम विधायक और सांसद इस्तीफा दे दें.अब तक केवल तेलंगाना राष्ट्र समिति के 11 और तेलुगु देसम के चार बागी विधायकों ने ही इस्तीफा दिया है.तेलंगाना के मंत्रियों और कांग्रेस और तेलुगु देसम के सभी विधायकों पर तुरंत त्यागपत्र देने के लिए लोगों का दबाव बढ़ रहा है और वो उन्हें हमलों का निशाना बनाने लगे हैं.आज तेलंगाना के लगभग सभी जिलों में तेलुगु देसम के विधायकों पर हमले किए गए उनकी गाड़ियों के शीशे तोड़े गए.इन विधायकों पर वारंगल, करीमनगर, निज़ामाबाद, आदिलाबाद, महबूबनगर और दूसरे स्थानों पर उस समय हमला किया गया जबकि वो तेलंगाना के समर्थन में भूख हड़ताल पर बैठने जा रहे थे.टीआरएस और दूसरे तेलंगाना समर्थकों की मांग है कि पहले यह विधायक त्यागपत्र दें और फिर आन्दोलन में शामिल हों.आज ही तेलंगाना में कांग्रेस के दो मंत्रियों डीके अरुणा और सूर्या के निवासस्थान का भी घेराव किया गया.तेलुगु देसम के तेलंगाना विधायकों ने त्यागपत्र देने के लिए 28 सितम्बर की तारीख तय की है जबकि कांग्रेस के तेलंगाना विधायकों और सांसदों ने कहा है कि वो पार्टी आला कमान को 25 सितम्बर तक समय देंगे और उसके बाद त्यागपत्र दे देंगे|

Sunday, September 18, 2011


भोपाल में आइसना के प्रांतीय सम्मेलन मै आन्ध्र प्रदेश से प्रकाशित हिंदी दैनिक स्वतंत्र वार्ता के निज़ामाबाद संस्करण के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव को "राष्ट्रिय पत्रकारिता सम्मान -2011 " से सम्मानित करते हुए राष्ट्रिय एकता परिषद के उपाध्यक्ष रमेश शर्मा ,आइसना के राष्ट्रिय अध्यक्ष शिव शंकर त्रिपाठी, मध्य प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार दिनेश वर्मा,अवधेश भार्गव एवम विनय जी.डेविड |

-----------------------------------------------------------------------------------

यशवंत सिंह,प्रदीप श्रीवास्तव एवम सुप्रिया राय सहित
भोपाल में सम्मानित हुए देश के पॉँच पत्रकार

आज पत्रकारिता क़ी कोई परिभाषा नहीं रही:दिनेश वर्मा

बदलते परिवेश के साथ आज समाज में पत्रकारिता क़ी कोई परिभाषा नही रह गई है| पत्रकारिता के क्षेत्र में उन जुगाडू लोगों का प्रवेश हो गया है, जिन्हें एक शब्द सही ढंग से लिखना भी नही आता | यह कहना था मध्य प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार दिनेश चन्द्र वर्मा का | वे गत दिनों (रविवार ११ सितम्बर २०११) भोपाल के रविन्द्र भवन में आल इंडिया स्माल न्यूज पेपर्स एसोसिएसन (आइसना )के "प्रांतीय सम्मेलन संघर्ष -२०११" एवम "राष्ट्रिय पत्रकारिता सम्मान समारोह " को संबोधित कर रहे थे |श्री शर्मा ने आगे कहा कि आज मीडिया एक व्यापक मध्यम है,लेकिन जिस दिन से पत्रकारिता को मीडिया का नाम दिया गया ,उसी दिन से पत्रकारिता का स्तर गिर गया |आज फ़ोन .मोबाईल,टी.वी,सभी कुछ मीडिया के अंतर्गत आ गए हैं | इस अवसर पर बोलते हुए राष्ट्रिय एकता परिषद् के उपाध्यक्ष एवम वरिष्ठ पत्रकार रमेश शर्मा ने कहा कि लघु एवम मध्यम समाचार पत्रों में राष्ट्र क़ी मूल छवि देखने को मिलाती है|आज इन समाचार पत्रों को जन जागरण का अभियान चलाना चाहिए,क्योंकि यह दौर संघर्ष का है.जिसमे हम कमजोर पड़ रहे हैं | वहीँ माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्व विद्यालय के पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष पुष्पेन्द्र पाल सिंह ने अपने सारगर्भित उद्बोधन में पत्रकारिता के वर्तमान परिवेश और उसकी दशा-दिशा को रेखांकित किया | इस अवसर पर आइसना ने देश के पॉँच पत्रकारों को "राष्ट्रिय पत्रकारिता सम्मान-2011 से सम्मानित किया | जिसमे भड़ास 4 मीडिया डाट काम के संचालक एवम संपादक यशवंत सिंह, आन्ध्र प्रदेश के निज़ामाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक "स्वतंत्र वार्ता "के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव , डेट लाईन इण्डिया क़ी सुप्रिया राय (पत्नी स्व.आलोक तोमर ),मुंबई से प्रकाशित "स्वर्ग विभा"क़ी डॉ तारा सिंह एवम प्रेस पालिका ,जयपुर के डॉ पुरुषोत्तम मीना "निरंकुश "शामिल थे |इसके अलावा दस पत्रकारों को " विशिष्ट पत्रकारिता सम्मान " एवम ग्यारह पत्रकारों को"प्रांतीय पत्रकारिता सम्मान "से नवाजा गया |सम्मान से 10 पत्रकारों में जय श्रीवास्तव इण्डिया न्यूज, भरत सेन स्वतंत्र पत्रकार, राम विलास शर्मा चंबल सुर्खी, त्रयम्बक शर्मा कार्टूनिस्ट, सुनील गुप्ता दैनिक जागरण, डॉ. शशि तिवारी सूचना मंत्र, स्व. सुरेश खरे को मरणोपरांत, लक्ष्मीनारायण उपेन्द्र स्वतंत्र पत्रकार, कुंदन अरोरा स्वतंत्र पत्रकार, सम्मानित किये गये। इसके साथ ही 11 पत्रकारों को प्रान्तीय पत्रकारिता सम्मान से सम्मानित किया गया ,जिनमें विनोद उपाध्याय दैनिक अग्रिबाण, रामकिशोर पवांर दैनिक पंजाब केसरी, अनिल बिहारी श्रीवास्तव ई.एम.एस., लोकेन्द्र सिंह राजपूत भारत समाचार, सुरेन्द्र सिंह अरोरा दैनिक फ्री प्रेस, विवेक श्रीवास्तव दैनिक नई दुनिया, सीताराम ठाकुर दैनिक राज एक्सप्रेस, अनिल दीक्षित पीपुल्स समाचार, शालिगराम शर्मा स्टार समाचार, ओम सरावगी टी.ओ.सी.न्यूज कटनी, अमर नौरिया शामिल थे |
सम्मान से पूर्व अपने उदबोधन में भड़ास मीडिया के यशवंत सिंह ने मीडिया में बड़े उद्योग घराने के बढ़ाते हस्तक्षेप पर चिंता जाहिर क़ी वहीँ स्वतंत्र वार्ता के प्रदीप श्रीवास्तव का कहना था कि लोगों में आज भी इस बात का भ्रम है कि दक्षिण में हिंदी व हिंदी पत्रकारिता क़ी स्थिति चिंता जनक है| जबकि स्थिति इसके ठीक विपरीत है,हिंदी पत्रकारिता क़ी बात करे या हिंदी भाषा क़ी,दोनों का विकास गैर हिंदी भाषियों ने ही किया है, वे सभी दक्षिण भारत के रहे हैं | उन्हों ने आगे कहा कि दक्षिण में हिंदी के पाठकों के संख्या में कमी नहीं है,उन तक अच्छे अखबार पहुँच ही नही पा रहे हैं |इस अवसर पर आइसना के प्रदेश अध्यक्ष अवधेश भार्गव ने मूलतः मध्य प्रदेश के रहने वाले वरिष्ठ पत्रकार स्वर्गीय अलोक तोमर क़ी स्मृति हर साल एक पत्रकारिता पुरस्कार देने क़ी घोषणा करते कहा कि पुरस्कार के तहत 25 हजार रुपये नकद के अलावा स्मृति चिन्ह ,शाल एवम श्रीफल प्रदान किये जाएँगे |इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से आइसना के राष्ट्रिय अध्यक्ष
शिव शंकर त्रिपाठी ,राष्ट्रिय संगठन सचिव सी.वी.मजुमदार,राष्ट्रिय सचिव सुश्री आरती त्रिपाठी ,प्रांतीय महा सचिव विनय जी. डेविड ,उपाध्यक्ष लोकेश दीक्षित, कार्यकारी अध्यक्ष के.वासु आदि भी उपस्थित थे|