Thursday, February 23, 2012

प्रायोजित खबर के लिए
समाचार पत्र को पाच लाख
बैतूल,(रामकिशोर पंवार):पेड न्यूज की तरह आजकल स्ट्रींग आपरेशन एवं प्रायोजित खबरो को परोसने के चक्कर में भोपाल के एक दैनिक समाचार पत्र को पांच लाख रूपए इस बात के लिए दिए कि उसने वह प्रायोजित खबर को छापी थी। अपनी ससुराल में तथाकथित शौचालय न होने के कारण शादी के तीसरे ही दिन ही एक महिला मायके चली गई और शौचालय बनने के बाद ही ससुराल लौटी। झीटूढाना की इस आदिवासी महिला अनीता नर्रे को दिल्ली से आए सुलभ इंटरनेशनल के मुखिया विंदेश्वर पाठक ने प्रायोजित सम्मान किया। इस अवसर पर उसे दो लाख रुपए की सम्मान राशि दी गई इसके अलावा दो लाख रुपए मकान और अन्य निर्माण के लिए दिए गए। सुलभ इंटरनेशनल ने बीबीसी में इस खबर को लेकर अपनी ओर से अनिता नर्रे को पांच लाख रूपए देने की घोषणा की थी लेकिन बाद में झीटूढाना में एक समारोह में अनीता नर्रे के घोषित राशी में कटौती करके उसका सम्मान किया गया। सुलभ इंटरनेशनल के प्रमुख बिन्देश्वर पाठक इस बात का कोई जवाब नहीं दे सके कि जब देश के केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम नरेश गांवो में सुलभ शौचालय की जगही मोबाइल की बाते करते है तब इस प्रायोजित स्टोरी का क्या औचित्य है। श्री पाठक ने मंत्री जी को ही खरी - खोटी सुना दी। जिला मुख्यालय से करीब 58 किमी दूर भीमपुर ब्लॉक के ग्राम झीटूढाना में कुछ गिने - चुने ग्रामीण और अनीता के परिजन के बीच श्री पाठक ने श्रीमति अनिता नर्रे को अपनी कंपनी सुलभ इंटरनेशनल का ब्राड एम्बेशेडर बनाने की बाते कहीं लेकिन उसके लिए महिला को क्या राशी दी जाएगी या उसके साथ कोई अनुबंध किया जाएगा इस सवाल का जवाब नहीं दे सके। यहां सुलभ संस्था के प्रमुख विंदेश्वर पाठक ने अनीता नर्रे को 2 लाख रुपए का ड्राफ्ट दिया। श्री पाठक ने कहा कि अनीता को 2 लाख रुपए अतिरिक्त दिए जा रहे हैं जिससे वह अपना घर और बाथरूम बना सके। उन्होंने बताया कि समग्र स्वच्छता अभियान के लिए मिसाल बनी अनीता नर्रे को अप्रैल माह में दिल्ली में सम्मानित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में 5 लाख रुपए का पुरस्कार एवं प्रशंसा पत्र प्रदान किया जाएगा। श्री पाठक ने कहा कि महिलाओं को जागरुक होना चाहिए। झीटूढाना में उन्होंने संस्था की ओर से बालिकाओं के स्वरोजगार के लिए प्रशिक्षण केंद्र खोलने की घोषणा भी की। कार्यक्रम में जिला प्रशासन एवं जिला पंचायत की ओर से कोइ भी अधिकारी मौजूद नहीं था। अनिता के परिजनो खासकर मायके एवं ससुराल वालो ने स्वीकार किया कि वे आज भी गांव में शौच के लिए बाहर जाते है। गांव में सुलभ शौचालय बन जाने के बाद भी गांव से बाहर शौच के लिए जाने की क्रिया को अनिता के परिजन अपनी दिनचर्या बताते है उनका कहना है कि गांव में घर - घर में सुलभ शौचालय खुल जाने के बाद भी लोग गांव के बाहर सुबह और शाम शौच के लिए जाते है। पत्रकारो के बार - बार टोकने पर श्री पाठक ने आखिर उस छुपे हुए रहस्य पर से पर्दा हटाते हुए स्वीकार किया कि इस प्रायोजित खबर के लिए दैनिक नवदुनिया भोपाल को पांच लाख रूपए सशर्त दिए जाएगें ताकि नवदुनिया उसमें से आधी रकम उस खबर को बनाने वाले संजय शुक्ला को आधी रकम दे साथ ही फोटोग्राफर को भी पच्चीस हजार रूपए दिए जाए। बैतूल आए सुलभ इंटरनेशनल के प्रमुख बिन्देश्वर पाठक ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री जयराम नरेश की नकारात्मक सोच के चलते कई उद्योग एवं परियोजनाओं का दम निकल गया इस बार भी वे शौचालय की तुलना मोबाइल से करके समग्र स्वच्छता अभियान का पलीता निकाल रहे है।
स्पैम मेल भेजने में भी
हिंदुस्तानी सबसे
आगे

दिल्ली । भ्रष्टाचार में आगे, प्रदूषण में आगे, नेट पर पोर्न देखने में आगे अब पता चला है कि नेट पर स्पैम फेंकने में हम भारतीय सबसे आगे हैं। जनवरी 2012 में भारत से सर्वाधिक स्पैम मेल भेजी गई। भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी क्रांति का एक एक पहलू यह भी है कि दुनिया भर में स्पैम मेल सृजित करने में भारत का पहला स्थान है। एंटी वायरस साफ्टवेयर से जुडे़ एक अध्ययन में कहा गया है कि जनवरी 2012 में भारत से सर्वाधिक स्पैम मेल सृजित की गईं। इस अवधि में दुनिया भर में जितनी स्पैम मेल भेजी गयी उनमें 11.5 प्रतिशत हिस्सेदारी भारत की रही है।

दूसरे स्थान पर इंडोनेशिया रहा है। हालांकि जनवरी 2012 में दिसंबर 2011 इंडोनेशिया में लगभग तीन प्रतिशत कम स्पैम सृजित की गईं। इंडोनेशिया के बाद तीसरे स्थान पर दक्षिण कोरिया रहा है। दक्षिण कोरिया से जनवरी 2012 में पिछले महीने के मुकाबले 1.6 प्रतिशत अधिक स्पैम मेल सृर्जित की गई हैं।

स्पैम मेल सृजित करने के मामले में दक्षिण अमेरिका के ब्राजील को चौथा और पेरू को पांचवां स्थान मिला है। हालांकि स्पैम मेल सृजित करने में ब्राजील में 2.1 प्रतिशत और पेरू में 2.5 प्रतिशत की गिरावट आई है। विएतनाम को स्पैम मेल भेजने में छठा स्थान मिला है। दिसंबर 2011 में भी यह इसी स्थान पर था। विश्व स्तर पर स्पैम मेल भेजने के मामले में विएतनाम की हिस्सेदारी 0.25 प्रतिशत है। स्पैम मेल सृजित करने के मामले में एशिया और दक्षिण अमेरिका के देश आगे रहे हैं।

स्पैम मेल भेजने के संबंध में जनवरी 2012 में इटली को सातवें स्थान पर रखा गया है। हालांकि दिसंबर 2011 के मुकाबले जनवरी 2012 में 0.25 प्रतिशत कम स्पैम मेल भेजे गए। ब्रिटेन को आठवां स्थान दिया गया है। ब्रिटेन से जनवरी 2012 में 1.95 प्रतिशत अधिक स्पैम मेल भेजे गए हैं। यहां बता दे कई बार जब आप अपने ई-मेल अकाउंट में जाते हैं तो अनजान ई-मेल आईडी से अजीब तरह के ईमेल्स आप पातें होंगे। कई बार तो ईनाम होता होगा तो कभी कोई पोर्न फिल्म । इतना ही नहीं ध्यान रखें कि स्पैम और हैकरों से बचने के लिए आपको सुझाव के रूप में जो मेल आते हैं, वह भी एक स्पैम होता है। जिसे आप न सिर्फ खोल कर अपने कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाते हैं, बल्कि उसे एक महत्वपूर्ण जानकारी समझ अपने दोस्तों को फॉरवर्ड कर उनका भी नुकसान करते हैं।
(दिल्ली (ब्यूरो)। भ्रष्टाचार में आगे, प्रदूषण में आगे, नेट पर पोर्न देखने में आगे अब पता चला है कि नेट पर स्पैम फेंकने में हम भारतीय सबसे आगे हैं। जनवरी 2012 में भारत से सर्वाधिक स्पैम मेल भेजी गई। भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी क्रांति का एक एक पहलू यह भी है कि दुनिया भर में स्पैम मेल सृजित करने में भारत का पहला स्थान है। एंटी वायरस साफ्टवेयर से जुडे़ एक अध्ययन में कहा गया है कि जनवरी 2012 में भारत से सर्वाधिक स्पैम मेल सृजित की गईं। इस अवधि में दुनिया भर में जितनी स्पैम मेल भेजी गयी उनमें 11.5 प्रतिशत हिस्सेदारी भारत की रही है।

दूसरे स्थान पर इंडोनेशिया रहा है। हालांकि जनवरी 2012 में दिसंबर 2011 इंडोनेशिया में लगभग तीन प्रतिशत कम स्पैम सृजित की गईं। इंडोनेशिया के बाद तीसरे स्थान पर दक्षिण कोरिया रहा है। दक्षिण कोरिया से जनवरी 2012 में पिछले महीने के मुकाबले 1.6 प्रतिशत अधिक स्पैम मेल सृर्जित की गई हैं।

स्पैम मेल सृजित करने के मामले में दक्षिण अमेरिका के ब्राजील को चौथा और पेरू को पांचवां स्थान मिला है। हालांकि स्पैम मेल सृजित करने में ब्राजील में 2.1 प्रतिशत और पेरू में 2.5 प्रतिशत की गिरावट आई है। विएतनाम को स्पैम मेल भेजने में छठा स्थान मिला है। दिसंबर 2011 में भी यह इसी स्थान पर था। विश्व स्तर पर स्पैम मेल भेजने के मामले में विएतनाम की हिस्सेदारी 0.25 प्रतिशत है। स्पैम मेल सृजित करने के मामले में एशिया और दक्षिण अमेरिका के देश आगे रहे हैं।

स्पैम मेल भेजने के संबंध में जनवरी 2012 में इटली को सातवें स्थान पर रखा गया है। हालांकि दिसंबर 2011 के मुकाबले जनवरी 2012 में 0.25 प्रतिशत कम स्पैम मेल भेजे गए। ब्रिटेन को आठवां स्थान दिया गया है। ब्रिटेन से जनवरी 2012 में 1.95 प्रतिशत अधिक स्पैम मेल भेजे गए हैं। यहां बता दे कई बार जब आप अपने ई-मेल अकाउंट में जाते हैं तो अनजान ई-मेल आईडी से अजीब तरह के ईमेल्स आप पातें होंगे। कई बार तो ईनाम होता होगा तो कभी कोई पोर्न फिल्म । इतना ही नहीं ध्यान रखें कि स्पैम और हैकरों से बचने के लिए आपको सुझाव के रूप में जो मेल आते हैं, वह भी एक स्पैम होता है। जिसे आप न सिर्फ खोल कर अपने कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाते हैं, बल्कि उसे एक महत्वपूर्ण जानकारी समझ अपने दोस्तों को फॉरवर्ड कर उनका भी नुकसान करते हैं।

(वन इंडिया)

Monday, February 6, 2012

रोमानिया में सत्ता परिवर्तन,
प्रधान मंत्री का इस्तीफा
ओराडिया,(रोमानिया) सोमवार क़ी देर रात रोमानिया के प्रधान मंत्री एमल बोक द्वारा अपने पदसे इस्तीफा दे दिए जाने के कारण यहाँ पर राजनीतिक स्थिरता पैदा हो गयी है | इस बीच देर रात यहाँ के राष्ट्रपति ट्राईयानबेस्क्यु ने नए प्रधानमंत्री के रूप में मिहल रजवान के नाम का प्रस्ताव रख दिया है |उल्लेखनीय है कि एक ओर पूरा देश प्राकृतिक आपदा बर्फ़बारी क़ी मर झेल रहा है, वहीँ दूसरी राजनीतिक संकट से देश के माहौल में गर्मी बढती जा रही है |खबर लिखे जाने तक
विस्तृत जानकारी नहीं मिल पायी थी |
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

Sunday, February 5, 2012

रोमानिया में बर्फ़बारी,
जनजीवन अस्त-व्यस्त

ओरेडिया (रोमानिया ) रोमानिया में विगत ७२ घंटों से निरंतर जरी बर्फ़बारी से जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है | पिछले तीन दिनों से लोग अपने घरों में कैद से हैं | जहाँ तक नजर जाती है वहां तक सफ़ेद बर्फ की चादर सी बिछी हुई है ,सडकों पर पांच से दस फीट तक बर्फ जमी हुई है|यही नहीं पेड़ों पर बर्फ की तह जमी है | रेलवे लाइनों पर बर्फ जमी होने के कारण ट्रेनों के आवागमन में बाधा पैदा हो रही है | स्थानीय लोग स्वयं अपने घरों के सामने जमी बर्फों को हटाने में जुटे हुए है | चारों तरफ बर्फ ही बर्फ की चादर फैली हुई है | लगातार तेज बर्फीली हवाएं चल रही हैं ,सडकों पर अवागमन बंद है |मौसम विभाग के अनुसार अगले कई दिनों तक यही स्थिति रहने वाली है | मौसम विभाग के अधिकारीयों ने जनता से अपील के है कि वे अपने घरों से बहार न निकलें | सर्कार बर्फों को हटाने के काम में लगी हुई है |बताया जाता है कि काफी लम्बे समय के बाद इस तरह की बर्फ़बारी देखने को मिल रही है| जहाँ इस बर्फ़बारी से स्थानीय जनता परेशान है वाही विदेशी पर्यटक इसका आनंद उठाने में मशगुल हैं | कुल मिलकर मैं इतना कह सकती हूँ की इस बार की बर्फ़बारी से रोमानिया की जनता परेशान हो रही है







abundant snow in almost all over the country, and it will appear the phenomenon of Freezing Rain..Traffic is hindered or even blocked on several roads in Romania following abundant snowfall in the last hours. The situation will never change either in the coming days. Meteorologists issued Orange Code, so that we will not get rid of the Frost, snowstorm or snowfall
फिन्लैंड में वृद्धों की देख-भाल
सरकार करती है :सलुमाकी
निज़ामाबाद | भारतीय कला ,संस्कृति ,स्वस्थ एवम रहन-सहन के अध्यन के लिए रोटरी कलब फिन्लैंड से पांच सदसीय दल के प्रमुख हिक्की एन सलुमाकी ने आज यहाँ पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि दोनों देशों में रहन सहन में काफी भिन्नता है |उनहोने यह भी कहा के भारत में सयुंक्त परिवार का सदियों पुराना इतहास रहा है ,जो आज भी जीवित है |जबकि फिन्लैंड में एकल परिवारों को ही प्रधानता दी जाती है |उनका कहना था कि उनके देश में वृद्धों की देखभाल सरकार करती है ,जबकि भारत में मेने देखा कि इसके लिए गैर सरकारी संगठन अपना दायितव निभाती है |श्री सलुमाकी का कहाँ था कि फिनलैंड में छह माह तक बर्फ ही पड़ती ,जबकि भारत में गर्मी अधिक है |खान-पान के बारे में पूछे जाने पर उनका कहना था कि वहां पर भी चावल आलू अदि खाए जाते हैं ,उसकी पैदावार भी है | उन्हों ने बताया कि फिनेंद में ७३ दिन तक सूर्यास्त ही नहीं होता |इनदिनों वहां का तापमान १३ डिग्री सेंटीग्रेड से भी कम है,जबकि यहाँ पर देख रहा हूँ कि कम-से -कम २२-२३ डिग्री के आस -पास है| रोटरी कलब के इस जी. एस ई.के दल में शामिल फिन्लैंड की नर्स सुश्री मिन्ना क्रिस्तिन्ना निमिनी ने कहा कि उनहोने निज़ामाबाद के अस्पतालों का दौरा किया,जिससे वे काफी प्रभावित भी हुई हैं |लेकिन उनका कहना था कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञानं के क्षेत्र में अस्पताल अभी काफी पीछे हैं |वहां पर हम मरीजो की देखभाल भी कम्प्यूटर के द्वारा करते हैं | दल में शामिल दन्त चिकित्सक विल्ली टी.सारेलैनें का कहना था कि रोग तो सभी एक प्रकार के होते हैं,लेकिन उनके ईलाज की प्रक्रिया अलग-अलग होती है|तब भी यहाँ पर काफी कुछ देखने व् सीखने को मिला |दल में शामिल समाज सेवा से जुडी सुश्री हन्ना एलिनल का कहना था कि भारत की तरह वहां भी घर होते ,बनावट भी सभी कि तरह एक सी ही होती है |अंतर है तो रहन सहन में | सामाजिक परिवर्तन भी काफी है दोनों देशों में | पर्यावरण में रसायन के प्रभाव पर शोध कर रही दल की सदस्य सुश्री रितालिना रिस्सनें का कहना था कि बढ़ते प्रदुषण के चलते वातावरण में परिवर्तन हो रहा है|यही कारण है कि मौसम में भी परिवर्तन होते जा रहे हैं |कुल मिलकर रोटरी कलब के इस दल का कहाँ था की निज़ामाबाद रोटरी कलब समाज सी के क्षेत्र में काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है |सवांददाता सम्मलेन में रोटरी कलब के अध्यक्ष वेड प्रकाश मित्तल. पूर्व सचिव राज कुमार सूबेदार,राम कृष्ण ,कटकम श्रीनिवास आदि उपस्थित थे |