Sunday, February 5, 2012

फिन्लैंड में वृद्धों की देख-भाल
सरकार करती है :सलुमाकी
निज़ामाबाद | भारतीय कला ,संस्कृति ,स्वस्थ एवम रहन-सहन के अध्यन के लिए रोटरी कलब फिन्लैंड से पांच सदसीय दल के प्रमुख हिक्की एन सलुमाकी ने आज यहाँ पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि दोनों देशों में रहन सहन में काफी भिन्नता है |उनहोने यह भी कहा के भारत में सयुंक्त परिवार का सदियों पुराना इतहास रहा है ,जो आज भी जीवित है |जबकि फिन्लैंड में एकल परिवारों को ही प्रधानता दी जाती है |उनका कहना था कि उनके देश में वृद्धों की देखभाल सरकार करती है ,जबकि भारत में मेने देखा कि इसके लिए गैर सरकारी संगठन अपना दायितव निभाती है |श्री सलुमाकी का कहाँ था कि फिनलैंड में छह माह तक बर्फ ही पड़ती ,जबकि भारत में गर्मी अधिक है |खान-पान के बारे में पूछे जाने पर उनका कहना था कि वहां पर भी चावल आलू अदि खाए जाते हैं ,उसकी पैदावार भी है | उन्हों ने बताया कि फिनेंद में ७३ दिन तक सूर्यास्त ही नहीं होता |इनदिनों वहां का तापमान १३ डिग्री सेंटीग्रेड से भी कम है,जबकि यहाँ पर देख रहा हूँ कि कम-से -कम २२-२३ डिग्री के आस -पास है| रोटरी कलब के इस जी. एस ई.के दल में शामिल फिन्लैंड की नर्स सुश्री मिन्ना क्रिस्तिन्ना निमिनी ने कहा कि उनहोने निज़ामाबाद के अस्पतालों का दौरा किया,जिससे वे काफी प्रभावित भी हुई हैं |लेकिन उनका कहना था कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञानं के क्षेत्र में अस्पताल अभी काफी पीछे हैं |वहां पर हम मरीजो की देखभाल भी कम्प्यूटर के द्वारा करते हैं | दल में शामिल दन्त चिकित्सक विल्ली टी.सारेलैनें का कहना था कि रोग तो सभी एक प्रकार के होते हैं,लेकिन उनके ईलाज की प्रक्रिया अलग-अलग होती है|तब भी यहाँ पर काफी कुछ देखने व् सीखने को मिला |दल में शामिल समाज सेवा से जुडी सुश्री हन्ना एलिनल का कहना था कि भारत की तरह वहां भी घर होते ,बनावट भी सभी कि तरह एक सी ही होती है |अंतर है तो रहन सहन में | सामाजिक परिवर्तन भी काफी है दोनों देशों में | पर्यावरण में रसायन के प्रभाव पर शोध कर रही दल की सदस्य सुश्री रितालिना रिस्सनें का कहना था कि बढ़ते प्रदुषण के चलते वातावरण में परिवर्तन हो रहा है|यही कारण है कि मौसम में भी परिवर्तन होते जा रहे हैं |कुल मिलकर रोटरी कलब के इस दल का कहाँ था की निज़ामाबाद रोटरी कलब समाज सी के क्षेत्र में काफी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहा है |सवांददाता सम्मलेन में रोटरी कलब के अध्यक्ष वेड प्रकाश मित्तल. पूर्व सचिव राज कुमार सूबेदार,राम कृष्ण ,कटकम श्रीनिवास आदि उपस्थित थे |

No comments:

Post a Comment